एक ट्रेडिंग रोबोट

अपनी कंपनी के शेयर कैसे बेचें?

अपनी कंपनी के शेयर कैसे बेचें?
हिन्दुस्तान 6 घंटे पहले मिंट

ढेर सारा पैसा कमाने के लिए शेयर कब खरीदें कब बेचें

शेयर बाजार एक ऐसी जगह है, जहां पर लोग अपना पैसा लगाकर ढेर सारा पैसा कमाना चाहते हैं। इसके लिए शेयरों को खरीदना और बेचना होता है। लेकिन, सिर्फ शेयर खरीदना और बेचना काफी नहीं है। जो निवेशक या ट्रेडर्स यह जान लेते हैं कि किस शेयर को कब खरीदना चाहिए और कब बेचना चाहिए, वही शेयर बाजार से जमकर मुनाफा कमाते हैं। दुनिया के सफल निवेशकों ने अपने अनुभव से, अपनी जानकारी से शेयर बाजार से मुनाफा कमाने के लिए कुछ तरीके तो निकाले हैं।

Need a customized investment portfolio?

We have one for you!

Need a customized investment portfolio?

We have one for you!

शेयर कब खरीदें और कब बेचें:

शेयर बाजार में निवेश के लिए जरूरी तीनों अकाउंट बैंक सेविंग्स (savings a/c), ट्रेडिंग (trading a/c)और डीमैट (demat) अकाउंट खुलवाने के बाद सबसे पहला सवाल उठता है कि किस शेयर में पैसा लगाएं और कब।

सफल अरबपति निवेशक वॉरेन बफेट का कहना है कि शेयर तब खरीदें जब पूरा शेयर मार्केट डरा हुआ हो और शेयर उस समय बेचें जब पूरा बाजार लालच से भरा हो। हालांकि, जानकारों का मानना है कि शेयर बाजार में निवेश करने से पहले प्रोफेशनल ट्रेनिंग लेनी चाहिए यानी सीखकर ही शेयर खरीदने-बेचने का काम करना चाहिए, ना कि किसी की सलाह पर। किसी भी कंपनी का फंडामेंटल और टेक्निकल रिसर्च करके ही उसके शेयर खरीदने या बेचने का फैसला करें।

शेयरों में निवेश करने या बेचने से पहले आपको पता होना चाहिए कि कंपनी का बिजनेस कैसा चल रहा है, कंपनी का बिजनेस मॉडल क्या है, कंपनी पैसे कैसे कमाती है, कंपनी के मैनेजमेंट में किस तरह के लोग हैं, कंपनी ने कितना कर्ज लिया हुआ है, क्या वह उस कर्ज का भुगतान करने में सक्षम है, वह कंपनी शेयर बाजार में लिस्ट होने के बाद यानी कि आईपीओ (ipo)आने के बाद अब तक कितना रिटर्न्स अपने निवेशकों को दे चुकी है, उस कंपनी के पास क्या कंपटीशन एडवांटेज है जो उस सेक्टर की बाकी कंपनियों से उसे अलग बनाता है, भविष्य में उस कंपनी की क्या योजनाएं हैं आदि। आप जब इन सब सवालों के सही जवाब खोज लेते हैं तो यही फंडामेंटल रिसर्च कहलाता है।

कुछ निवेशक कंपनी के शेयर का चार्ट पैटर्न देखकर पता लगाते हैं कि शेयर अभी और मुनाफा देगा यानी महंगा होगा या फिर गिरेगा यानी नुकसान पहुंचाएगा। किसी शेयर का चार्ट पैटर्न देखकर उसका संभावित ट्रेंड पता करना टेक्निकल एनालिसिस कहलाता है। किसी शेयर के टेक्निकल एनालिसिस में अपट्रेंड, डाउनट्रेंड, इंडिकेटर, कैंडल स्टिक, मूविंग एवरेज, ट्रेंडलाइन आदि तरीके भी शामिल हैं।

आमतौर पर शेयर मार्केट में दो तरह के लोग होते हैं –ट्रेडर और इन्वेस्टर यानी निवेशक। टेक्निकल एनालिसिस करके शेयर खरीदने-बेचने वालों को ट्रेडर्स कहते हैं और फंडामेंटल एनालिसिस करके शेयर खरीदने-बेचने वालों अपनी कंपनी के शेयर कैसे बेचें? को निवेशक कहते हैं। जानकारों का कहना है कि सही शेयर चुनने के लिए फंडामेंटल एनालिसिस की मदद लें, जबकि उस शेयर को किस कीमत पर खरीदना है और किस कीमत पर बेचना है, इसके लिए टेक्निकल एनालिसिस की मदद लें।

मत बेचें यह शेयर! ₹1150 पर जाने वाला है भाव, 40 में से 39 एक्सपर्ट ने कहा- जल्दी खरीद लो

हिन्दुस्तान लोगो

हिन्दुस्तान 6 घंटे पहले मिंट

Stock To Buy: अगर आप किसी स्ट्रॉन्ग शेयर की तलाश में हैं तो आप आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों (ICICI अपनी कंपनी के शेयर कैसे बेचें? Bank share) पर नजर रख सकते हैं। मार्केट एक्सपर्ट के मुताबिक, इस शेयर में आने वाले दिनों में जबरदस्त तेजी देखी जा सकती है। खास बात यह है कि आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों पर कवरेज कर रहे 40 में से 39 एक्सपर्ट ने इसे खरीदने की सिफारिश की है, तो एक होल्ड रखने की। किसी भी ब्रोकरेज ने इस शेयर बेचने की सलाह नहीं दी है। आपको बता दें कि ICICI बैंक के शेयर वर्तमान में अपने रिकॉर्ड हाई ₹958 के आसपास कारोबार कर रहे हैं। यह बैंकिंग शेयर आज सोमवार को 933.65 रुपये पर कारोबार कर रहा है।

₹1,150 का है टारगेट प्राइस

Refinitiv के डेटा के अनुसार, आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों में तेजी की गति को 40 एनालिस्ट में से जारी देखा जा रहा है। लगभग 23 ने बैंकिंग स्टॉक के लिए स्ट्रॉन्ग 'बाय' की सिफारिश की है। 16 ने 'बाय' रेटिंग दी है। वहीं, 1 ने 'होल्ड' रेटिंग दी है। बता दें कि किसी ने भी 'सेल' रेटिंग नहीं दी है। ब्रोकरेज ने ₹1,150 प्रति शेयर के SOTP आधारित टारगेट प्राइस के साथ बैंकिंग स्टॉक (Banking Stock) पर अपना 'बाय' टैग रखा है। एक अन्य ब्रोकरेज एंबिट ने ₹1,025 का टारगेट प्राइस रखा है। वहीं, ब्रोकरेज प्रभुदास लीलाधर ने भी आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों पर टारगेट 1,090 रुपये का रखा है और इसे 'बाय' रेटिंग दी है। उनका मानना ​​है कि बैंक ग्राहकों की सुविधा के लिए बेहतर काम कर रहा है इससे आने वाले दिनों में फायदा मिल सकता है।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

ब्रोकरेज आईसीआईसीआई बैंक को FY22-25E में कमाई में 19% CAGR और FY24 में 17% का ROE देता है क्योंकि इसका मानना ​​​​है कि वैल्यूएशन भी वाजिब है।' ब्रोकरेज के मुताबिक, ग्राहक ज्यादातर वॉलेट के हिस्से पर कब्जा करने के लिए आईसीआईसीआई के डिजिटल प्रयास लेनदेन को अपना रहे हैं। प्रौद्योगिकी और एनालिटिक्स पर जबरदस्त कौशल के साथ-साथ बैंक स्तर पर प्राॅफिट को फोकस कर रहा है। दूसरी तिमाही में बैंक को मजबूत इनकम, ब्याज आय (एनआईआई) में वृद्धि हुई। इस अवधि के दौरान बेंचमार्क बीएसई सेंसेक्स में लगभग 12% की वृद्धि की तुलना में आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों ने पिछले छह महीनों में 25% से अधिक की वृद्धि दर्ज की है।

(Disclaimer: ऊपर दिए गए विचार और सिफारिशें ब्रोकिंग कंपनियों के हैं, लाइव हिन्दुस्तान के नहीं।)

राकेश झुनझुनवाला : जाने कैसे बना एक आम आदमी, शेयर मार्किट का बिग बुल

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। भारतीय शेयर मार्किट का बिग बुल कहे जाने वाले राकेश झुनझुनवाला ने आज यानि कि 14 अगस्त 2022 को मुम्बई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में 62 वर्ष की आयु में अंतिम सांस ली। दिल का दौरा पड़ने के बाद सुबह करीब 6.45 बजे उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टर्स ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

भारत के वारेन बफेट कहे जाने वाले राकेश झुनझुनवाला को शेयर मार्किट का सबसे बड़ा खिलाड़ी माना जाता है। मात्र 5,000 रुपये से 40,000 करोड़ रुपये का साम्राज्य खड़ा करने वाले राकेश झुनझुनवाला का जीवन बहुत ही प्रेरणादायी है। आइये जानते है शेयर मार्किट के इस बिग बुल के संघर्ष, परिवार और कुल संपत्ति के बारे में –

जन्म और शुरुआती जीवन

राकेश झुनझुनवाला का जन्म 5 जुलाई 1960 को हैदराबाद में हुआ था। राकेश के पिता राधेश्यामजी झुनझुनवाला मुंबई में एक आयकर अधिकारी थे, जबकि उनकी माता उर्मिला झुनझुनवाला एक ग्रहणी थीं। झुनझुनवाला बचपन दो बहनों – सुधा गुप्ता और नीना संघरिया एवं एक बड़े भाई राजेश झुनझुनवाला के साथ बीता। राजेश पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं।

राकेश झुनझुनवाला ने इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टड अकाउंट ऑफ इंडिया से चार्टेड अकाउंटेंट की पढाई की थी। इससे पहले उन्होंने साल 1985 में मुंबई में स्थित सिडेनहैम कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स से बी.कॉम किया था।

राकेश झुनझुनवाला का परिवार

राकेश झुनझुनवाला के परिवार में पत्नी रेखा झुनझुनवाला सहित दो बेटे – आर्यमान झुनझुनवाला और आर्यवीर झुनझुनवाला एवं बेटी निष्ठा झुनझुनवाला है।

रेखा से राकेश की शादी 22 फरवरी 1987 को हुई थी। रेखा ना सिर्फ राकेश की लाइफ पार्टनर है बल्कि वह उनके व्यापार में भी उनके साथ हिस्सेदारी में है।

राकेश झुनझुनवाला की कुल संपत्ति

जैसा की हमने बताया कि राकेश ने शेयर मार्किट में ट्रेडिंग करना 25 साल की उम्र में महज 5000 हजार रूपये शुरू किया था। उस दौरान बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का बेंचमार्क इंडेक्स सेंसेक्स 150 पर था, जबकि यह अब 59,000 से अधिक पर कारोबार कर रहा है।

शुरुआती दिनों में झुनझुनवाला को नुकसान का सामना करना पड़ा था। स्टॉक मार्केट में उन्होंने पहला बड़ा मुनाफा टाटा टी (Tata Tea) से मिला। इस दौरान 43 रुपये की कीमत पर झुनझुनवाला ने टाटा टी के 5,000 शेयर खरीदें थे, जिससे उन्होंने 1986 में इस शेयर से 5 लाख रुपये लगभग तीन गुना मुनाफा कमाया था।

राकेश झुनझुनवाला की कुल संपत्ति 5.8 बिलियन डॉलर यानि की लगभग 40 हजार करोड़ रुपये के करीब है। फोर्ब्स 2021 की सूची के अनुसार वह भारत के 36वें जबकि दुनिये के 440वें सबसे अमीर अरबपति थे।

इन कंपनियों में किया बड़ा निवेश

राकेश झुनझुनवाला की कंपनी का नाम रेयर इंटरप्राइजेज है, जिसके माध्यम से उन्होंने कई बड़ी कंपनियों में निवेश किया हुआ था। इनमें टाइटन, टाटा मोटर्स, क्रिसिल, अरबिंदो फार्मा, प्राज इंडस्ट्रीज, एनसीसी, एप्टेक लिमिटेड, आयन एक्सचेंज, एमसीएक्स, फोर्टिस हेल्थकेयर, ल्यूपिन, वीआईपी इंडस्ट्रीज, जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज, रैलिस इंडिया, जुबिलेंट लाइफ साइंसेज जैसी कंपनियां शामिल हैं।

कुल मिलाकर झुंझुवाला का 30 से ज्यादा कंपनियों में निवेश था, जहां वह हंगामा मीडिया और एप्टेक के चेयरपर्सन भी थे। उन्होंने अपनी पत्नी रेखा झुनझुनवाला के साथ मिलकर लगभग 32 कंपनी के शेयरों में करीब 30,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश कर रखा है।

लेकिन हाल ही में उनकी एयरलाइन अकासा (Akasa Airline) की शुरूआत हुई थी, पत्नी रेखा सहित दोनों की कुल हिस्‍सेदारी 45.97 प्रतिशत है। यह उनका सपना था, जहां उन्होंने अकासा एयरलाइन के माध्यमसे से सबसे सस्ते हवाई सफर का वादा किया था। 7 अगस्त को ही अकासा ने पहली उड़ान मुंबई और अहमदाबाद के बीच भरी थी और उसके ठीक 6 दिन बाद राकेश ने अपनी आंखे बंद कर ली।

इसके अलावा शेयर मार्किट में ट्रेडिंग करने वाले लोगों को झुनझुनवाला ने कुछ मंत्र भी दिए है, जो अभी तक खासे कामयाब भी रहे है।

दुनिया का सबसे अमीर आदमी बना यूट्यूबर! एलन मस्क भी रह गए पीछे, जानिए पूरा मामला

दुनिया के अपनी कंपनी के शेयर कैसे बेचें? अमीरों की सूची में एक नया नाम जुड़ गया। ये नाम है मैक्स फोश। दरअसल ये दावा भी मैक्स फोश का ही है कि वे दुनिया के सबसे अमीर आदमी बन गए। इस रेस में उन्होंने टेक कंपनी के मालिक एलन मस्क को भी पीछे छोड़ दिया। मैक्स फोश एक यूट्यूबर हैं।

Man Became World Richest Person For 7 Minutes leaves Elon Musk Behind

अभिनेता अनिल कपूर की एक फिल्म आपको याद होगी नायक, जिसमें में वे एक दिन के लिए मुख्यमंत्री बनते हैं। ये तो रील लाइफ की बात थी, लेकिन कुछ ऐसा ही रियल लाइफ में भी हुआ है। यहां एक शख्स दुनिया का सबसे अमीर आदमी बन गया। दरअसल मैक्स फोश नाम के शख्स का दावा है कि वो दुनिया का सबसे अमीर आदमी बना। इस मामले में उसने टेक अरबपति Elon Musk को भी पीछे छोड़ दिया। हालांकि ये अवधि महज सात मिनट ही रही। मनी टेबल के टॉप पर इस YouTuber का कार्यकाल केवल 7 मिनट यानि बहुत अल्पकालिक ही था।

मैक्स फोश के यूट्यूब पर छह लाख से अधिक फॉलोअर्स हैं। उसने साढ़े आठ मिनट का एक वीडियो बनाया है। वीडियो अपने चैनल पर अपलोड कर मैक्स ने बताया है कि आखिर उसने एलन मस्क को कैसे पीछे छोड़ा!

मैक्स की ओर से एक वीडियो शेयर किया गया है। इसको अब तक 6 लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है। वीडियो में मैक्स कहता है, 'अगर मैंने लगभग 10 अरब शेयरों की कंपनी 'Unlimited Money Limited' बनाई।

यूट्यूबर ने मात्र 42 सेकंड में कमाए 1 करोड़ 75 लाख रुपए, जानिए कैसे

उसका पंजीकरण कराया और एक शेयर 50 पाउंड में बेचा तो मेरी कंपनी का मूल्य तकनीकी रूप से 500 अरब पाउंड होगा। इस तरह मैं अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी एलन मस्क को पूरी तरह से पछाड़कर दुनिया का सबसे अमीर आदमी बन जाऊंगा।'

Max Fosh ने इस वीडियो में दिखाया कि कैसे उसने अपनी कंपनी के शेयर कैसे बेचें? Unlimited Money Limited नाम से एक कंपनी खोली। अपनी कंपनी रजिस्टर्ड करते वक्त इसे मैक्रोनी नूडल्स बनाने वाली कंपनी बताया। मैक्स ने अपनी कंपनी के 10 बिलियन शेयर इश्यू करने की बात कही और प्रत्येक शेयर का वैल्यू 50 पाउंड तय किया।

मैक्स के लिए ये बड़ी चुनौती थी कि वे अपनी कंपनी का शेयर कैसे बेचें? इसके लिए मैक्स सड़क किनारे कुर्सी-मेज लगाकर बैठ गए और चिल्ला-चिल्ला कर अपनी कंपनी का शेयर बेचने की कोशिश करने लगे। काफी सारी नाकामियों के बाद एक महिला मैक्स की कंपनी का शेयर 50 पाउंड में खरीदने को तैयार हो गई।

इसके बाद मैक्स फोश ने अपनी कंपनी का सही अपनी कंपनी के शेयर कैसे बेचें? मूल्य पता लगाने की कोशिश की। उन्होंने शेयर के डॉक्यूमेंट और अन्य जरूरी कागजों के साथ इसे अथॉरिटी के पास भेजा। दो हफ्तों में मैक्स को वापस एक लेटर मिला, जिसमें कंपनी की वैल्यू को 500 बिलियन पाउंड का बताया गया।

लेकिन मैक्स के पास अपनी के 500 बिलियन डॉलर का होना प्रमाणित करने के लिए कोई रेवेन्यू या प्रोडक्ट का सपोर्ट नहीं था, लिहाजा उन्हें तुरंत कंपनी बंद करने का आदेश दिया गया। ऐसा ना करने पर उन पर धोखाधड़ी का आरोप लग सकता अपनी कंपनी के शेयर कैसे बेचें? था।

सिर्फ 7 मिनट में बंद हो गई कंपनी

लेटर मिलने के बाद मैक्स ने तुरंत अपनी कंपनी की इकलौती इन्वेस्टर महिला से बात कर कंपनी को बंद कर दिया। ऐसा करने में उन्हें महज 7 मिनट का वक्त लगा।

मैक्स ने कहा कि वह अथॉरिटी द्वारा भेजे गए इस लेटर को संभाल कर फ्रेम करा देंगे, जो इस बात का प्रमाण होगा कि वह कितने अमीर हैं।

रेटिंग: 4.97
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 624
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *