स्टॉक ट्रेडिंग

ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं

ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं

Intraday Trading क्या होती है (संपूर्ण जानकारी) | Intraday Trading कैसे करे 2022

आज के समय में शेयर मार्केट से काफी लोग जुड़ रहे है। कोरोना महामारी के बाद से लोगो में इसके प्रति काफी लगाव देखा गया है। शेयर मार्केट में आप दो ही तरीके से पैसे कमा सकते है या तो आप इन्वेस्टमेंट कर सकते है या फिर इंट्राडे ट्रेडिंग। आज के इस आर्टिकल में हम आपको इंट्राडे ट्रेडिंग के बारे में बताएंगे। क्या होता है इंट्राडे ट्रेडिंग? इससे कैसे पैसे कमाए, इसके फायदे और नुकसान। सबकुछ जानेंगे हम इस आर्टिकल में। तो आईए सबसे पहले intraday ट्रेडिंग के बारे में जान लेते है।

Table of Contents

Intraday Trading क्या होती है

जैसा की आप जानते ही होंगे की शेयर मार्केट में हम शेयर की खरीद-बिक्री करते है। शेयर मार्केट में लोग कम दाम में शेयर खरीद के उसे दाम बढ़ने पर बेच कर पैसे कमाते है। आप खरीदे हुए शेयर को या तो तुरंत बेच सकते है या फिर आप जब चाहे तब बेच सकते है। अगर आप शेयर को आज खरीद कर आज ही बेच देते है तो इसे ही intraday ट्रेडिंग कहते है।

अगर आप खरीदे शेयर को आज के अलावा किसी और दिन बेचते है तो उसे डिलीवरी कहते है। Intraday trading के अपने फायदे और नुकसान है। लेकिन सही से ट्रेडिंग करके आप इसमें अच्छा पैसा बना सकते है। आईए सबसे पहले हम Intraday ट्रेडिंग करना जान लेते है। इसके बाद इसके फायदे और नुकसान को देखेगे।

Intraday Trading कैसे करे

Intraday trading इन्वेस्टमेंट की तुलना में काफी रिस्की होता है। इसलिए भी इसमें कदम रखने से पहले अच्छे से अपना सेटअप ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं तैयार रखे। जैसे स्टॉपलॉस, टारगेट, शेयर सिलेक्शन इत्यादि। आपको Intraday trading करने के लिए निम्नलिखित बातो का ध्यान रखना चाहिए:-

  • सबसे पहले एक अच्छा लिक्विफाइड स्टॉक चुने। लिक्विफाइड का मतलब ऐसे स्टॉक से है जिसमे अच्छा खासा वॉल्यूम और मूवमेंट हो।
  • इसके बाद आप एंट्री प्राइस और टारगेट सेट करे। और साथ ही में स्टॉप लॉस लगाना न भूलें। स्टॉपलॉस आपको अधिक लॉस होने से बचाता है।
  • आप अलग अलग तरह के इंडिकेटर का इस्तमाल कर सकते है। यह आपको स्टॉक के मूवमेंट से जुड़ी जानकारी देंगे। जैसे RSI, Volume chart इत्यादि।
  • आप रिस्क रिवार्ड को हमेशा ध्यान में रखकर ही ट्रेडिंग करे। जितना रिस्क कम उतना अच्छा है। कभी भी लालच न करे हमेशा धैर्य बनाए रखे।
  • अब जब आप intraday ट्रेडिंग करना सीख चुके है तो आईए अब intraday ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान के बारे में जान लेते है।

इन्हें भी पड़े :

Intraday Trading के फायदे

Intraday ट्रेडिंग के बहुत सारे फायदे है। इसका सही से उपयोग करके आप इसमें अच्छा खासा पैसा कमा सकते है। आईए इसके फायदे को देखते है।

जहा एक और इन्वेस्टमेंट के जरिए आप महीनो और सालो में पैसे कमाते है तो वही Intraday trading की मदद से आप कुछ ही घंटो या मिनटों में पैसे कमा सकते है।

Intraday trading में आप मार्केट में कम समय देकर ज्यादा पैसे कमा सकते है। इसके साथ ही आपका पैसा भी इसमें फसा नही रहता है।

Intraday ट्रेडिंग के लिए बहुत से ब्रोकर आपको मार्जिन फैसिलिटी देते है, जिसका मतलब है की आप थोड़े पैसे में ही बहुत सारा शेयर खरीद बेच सकते है। इसके मदद से आप अच्छा खासा पैसे बना सकते है।

Intraday Trading के नुकसान

जैसा की आप जानते ही होंगे की हर चीज का फायदा और नुकसान दोनो ही होता है। किसी भी चीज के नुकसान से बचने का सबसे अच्छा तरीका है की उसे अच्छे से जाने। तो आईए अब आपको Intraday ट्रेडिंग के नुकसान के बारे में बताते है। इसे अच्छे से समझे ताकि आप नुकसान से बच सके।

Intraday trading में आपको शेयर एक ही दिन में खरीदना और बेचना होता है, इस वजह ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं से आपके लॉस की संभावना अधिक हो जाती है।

बहुत ज्यादा मार्जिन के प्रयोग की वजह से छोटे सा लॉस भी आपके लिए बहुत बड़ा लॉस साबित हो जाता है। इसलिए मार्जिन का सही से उपयोग करे।

कई बार intraday trading में अप्पर सर्किट या फिर लोअर सर्किट लग जाने की वजह से आप इसमें फस जाते है। इसलिए पोजिशन को सही समय पर एग्जिट कर दे।

Intraday trading में डिलीवरी की तुलना अधिक ब्रोकरेज देना परता है। इसलिए ट्रेडिंग सही से करे।

अब जब आप Intraday ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान को भली भाती जान चुके है तो आइए अब आपको बताते है की intraday ट्रेडिंग को कैसे सीखा जा सकता है। अगर आप इसे सीख के ट्रेडिंग करेंगे तो ज्यादा चांसेज है की आप फायदे में रहेंगे।

Intraday trading कैसे सीखे

अगर आप Intraday ट्रेडिंग सीखना चाहते है तो इसके लिए आप यूट्यूब का सहारा ले सकतें है। यूट्यूब पे आपको ढेरो लर्निंग विडियोज मिल जायेंगे। इसके अलावा आप बुक्स का भी सहारा ले सकते है। इन बुक्स के मदद से आप Intraday ट्रेडिंग को आसनी से सीख सकते हैं। कुछ फेमस बुक्स के नाम इस प्रकार है:

इंट्राडे ट्रेडिंग की पहचान

ट्रेडनिति – कैसे बने सफल प्रोफेशनल ट्रेडर

रिच डैड पूअर डैड

A टू Z शेयर मार्केट (इंट्राडे ट्रेडिंग)

इंट्राडे ट्रेडिंग की पहचान

ऊपर में हमने कुछ बुक्स में नाम दिए है आप इन बुक्स को पढ़ कर इंट्राडे ट्रेडिंग के बारे में सीख ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं सकते है। ये सारे बुक्स हिंदी में है, इसे आप आसानी से पढ़ कर समझ सकते है। इसके बाद जब आप intraday को अच्छे से समझ ले तब आप इसका प्रैक्टिकल करने के लिए पेपर ट्रेडिंग कर सकते है। आईए अब आपको पेपर ट्रेडिंग के बारे में बताते है।

पेपर ट्रेडिंग क्या है?

पेपर ट्रेडिंग एक तरह का सिमुलेटर है जिसके मदद से आप बिना पैसे लगाए ट्रेडिंग कर सकते है। यह एक तरह का वर्चुअल ट्रेडिंग होता है। इसके मदद से आप बिना पैसे लगाए ट्रेडिंग का अभ्यास कर सकते है। आपको इंटरनेट पर बहुत सारे ऐप और वेबसाइट मिल जाएंगे जो आपको वर्चुअल ट्रेडिंग के माध्यम से पेपर ट्रेडिंग की सुविधा उपलब्ध कराते है। आप चाहे तो स्काट्रेड, फिडेलिटी जैसे पेपर ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का प्रयोग कर सकते है।

Intraday ट्रेडिंग में किन बातों का रखे ध्यान

Intraday ट्रेडिंग पूरी तरह से मार्केट के मूव पर निर्भर करता है। इसमें आप जहा एक दिन में ही पूरे महीने की सैलरी कमा सकते है तो वही पूरे महीने की सैलरी गवा भी सकते है। यह हाई रिस्क वाला काम है। इसे बिना सीखे कभी ट्राय नही करना चाहिए। शुरू में आप कम कैपिटल के साथ इसको आजमा सकते है। धीरे धीरे जब आप मार्केट को अच्छे से समझ जाए तब इसमें बड़े अमाउंट से ट्रेडिंग करे। अपना कैपिटल हमेशा बचा के रखे, अपना मूल धन इसे कभी नही खोए।

निष्कर्ष :

दोस्तो, आज के इस आर्टिकल में हमने शेयर मार्केट के अंतर्गत आने वाले intraday trading के बारे में जाना। Intraday क्या है, Intraday Trading कैसे करे, Intraday Trading फायदे और नुकसान। अगर आपको यह आर्टिकल “Intraday Trading“ फायदेमंद लगा हो तो इसे जरूर शेयर करे। इसके साथ ही किसी तरह के सवाल के लिए आप नीच कमेंट कर सकते है। हम आपकी मदद करने की कोशिश करेंगे। ऐसे ही बेहतरीन और जानकारी से भरे आर्टिकल के लिए आप हमारे वेबसाइट से जुड़े रहे।

कॉपी ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान

कॉपी ट्रेडिंग (CT) एक दृष्टिकोण है जो 2005 में उत्पन्न हुआ था जब व्यापारियों ने स्वचालित सौदों के लिए डिज़ाइन किए गए कुछ एल्गोरिदम की प्रतिलिपि बनाना शुरू किया था। दृष्टिकोण गति प्राप्त करना जारी रखता है; इस बीच, विशेषज्ञ इस पद्धति के पेशेवरों और विपक्षों दोनों में अंतर करते हैं।

कॉपी ट्रेडिंग क्या है?

विधि का नाम इसके सिद्धांतों की व्याख्या करता है; यही कारण है कि नवागंतुक आसानी से समझ जाते हैं कि कॉपी ट्रेडिंग अन्य व्यापारियों के सौदों की नकल पर आधारित है। इस दृष्टिकोण की सावधानियां क्या हैं? फ़ोरेक्ष बाजार अभी भी निवेश करने के लिए सबसे आशाजनक साधनों में से एक है। यह कहा गया है कि शुरुआती खिलाड़ी मुनाफे की तलाश में इस उद्योग में शामिल होते हैं।

फ़ोरेक्ष आँकड़े निम्नलिखित तथ्य दिखाते हैं:

30% से अधिक नए व्यापारी (1 वर्ष से कम का अनुभव) वित्तीय बाजारों को बहुत जटिल समझते हैं। कॉपी ट्रेडिंग उन व्यापारियों के लिए एकमात्र प्रभावी तरीका है।

CT पद्धति ने 2020 में $50 बिलियन से अधिक का लाभ कमाया, और यह संख्या 2025 तक $80 बिलियन तक बढ़ने की उम्मीद है।

कॉपी ट्रेडिंग का क्या मतलब है?

दृष्टिकोण में निम्नलिखित चरण शामिल हैं:

एक पेशेवर व्यापारी खोजें जो पूरी तरह से आपके लक्ष्यों से मेल खाता हो, और उसके लिए सदस्यता लें। निम्नलिखित पहलुओं को ध्यान में रखें: ग्राहकों की संख्या, व्यापारिक आंकड़े, लाभ, जोखिम स्तर, प्रारंभिक निवेश पर वापसी, और अन्य कारक।

अपने निवेश बजट को परिभाषित करें। याद रखें कि आपके निवेश को आपके दैनिक जीवन के लिए बाधा उत्पन्न नहीं करनी चाहिए। तय करें कि कौन सी राशि निवेश करने के लिए पर्याप्त है। कॉपी ट्रेडिंग - कैसे शुरू करें? यह सभी नवागंतुकों का प्रश्न है, और विशेषज्ञ कई सफल व्यापारियों का अनुसरण करने की सलाह देते हैं। अपने निवेश बजट को 2-3 व्यापारियों के बीच साझा करें।

बेहतर सीटी तंत्र चुनें। कुछ व्यापारी सिग्नल प्राप्त करते हुए मैन्युअल रूप से सौदे खोलते और बंद करते हैं। अन्य निवेशक प्रक्रिया को स्वचालित करना पसंद करते हैं। सेमी-ऑटोमेटेड मोड भी उपलब्ध है।

जब परिणाम आपकी अपेक्षाओं के अनुरूप हों तो अधिक फंड निवेश करें। नुकसान के मामले में, अनुसरण करने के लिए अन्य व्यापारियों को चुनें।

कॉपी ट्रेडिंग के शीर्ष -5 लाभ

यह दृष्टिकोण नए बाजार के खिलाड़ियों के लिए मददगार है। जब आपने अभी बाजार में प्रवेश किया है और आपके पास कोई अनुभव नहीं है, तो अन्य व्यापारियों के सौदों की नकल करना यह समझने का एक सही तरीका है कि बाजार कैसे काम करता है।

जब कोई ट्रेडर FX मार्केट मैकेनिज्म को नहीं समझ सकता है और नुकसान झेलता है, तो कॉपी ट्रेडिंग इस इंस्ट्रूमेंट से मुनाफा पाने का तरीका है।

CT सौदों की स्वचालित प्रक्रिया निवेशकों के समय को मुक्त करती है, क्योंकि विशेष सॉफ्टवेयर द्वारा ऑर्डर दिए जाते हैं। इसने कहा कि दृष्टिकोण एक निष्क्रिय निवेश विकल्प के रूप में कार्य करता है।

उन्नत जोखिम प्रबंधन होता है, क्योंकि निवेशक एक पेशेवर व्यापारी के आँकड़ों, रणनीतियों और अन्य पहलुओं का विश्लेषण करते हैं, यह समझने के लिए कि क्या वे एक व्यापारी पर अपने पैसे पर भरोसा करने के लिए तैयार हैं या नहीं।

अपने नुकसान पर नियंत्रण रखें। जब परिणाम आपकी अपेक्षाओं के अनुरूप नहीं होते हैं, तो आपका ध्यान अन्य व्यापारियों पर स्थानांतरित करना आसान होता है।

इस विधि के मुख्य विपक्ष

जब उपयोगकर्ता कॉपी ट्रेडिंग करने के तरीके में गहराई से उतरते हैं, तो फायदे काफी उज्ज्वल और आकर्षक होते हैं। इस बीच, यह न भूलें कि नुकसान भी मौजूद हैं:

पेशेवर व्यापारियों को भी दुर्भाग्य का सामना करना पड़ता है; यही कारण है कि आपकी जमा राशि के पिघलने का जोखिम मौजूद है।

मैनुअल CT के बारे में बात करते समय, व्यापारियों को एक प्लेटफॉर्म पर 24/7 पहुंच की आवश्यकता होती है। यदि आप स्वचालित तंत्र पसंद करते हैं, तो सॉफ़्टवेयर हमेशा ऑनलाइन होना चाहिए।

सफल व्यापारियों का विशाल बहुमत सफल सौदों से शुल्क की मांग करता है; यही कारण है कि दृष्टिकोण में कुछ खर्च शामिल हैं।

इसलिए, ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं यह समझने के लिए कॉपी ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान का विश्लेषण करें कि क्या यह तरीका आपके विचारों और अपेक्षाओं के अनुरूप है।

ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं

किसी भी न्यूज़ या इवेंट के कारण प्राइस ऍक्शन ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं और अस्थिरता के आधार पर ट्रेडिंग को न्यूज़ या इवेंट बेस्ड ट्रेडिंग के रूप में जाना जाता है। न्यूज़ या इवेंट या तो निर्धारित होते है या अचानक हो सकते हैं। अनुसूचित समाचार पहले से ही नियोजित होते हैं, जबकि अचानक आने वाले न्यूज़ इवेंट्स अनिर्धारित या अनियोजित होते हैं। एक अनुसूचित घटना पर उचित उम्मीदों के साथ ट्रेड कर सकते हैं, लेकिन अनिर्धारित न्यूज़ या इवेंट्स पर ट्रेड करना बहुत मुश्किल है क्योंकि वो स्पष्टीकरण के अधीन हैं।

समाचार और घटनाएँ ग्लोबल या डोमेस्टिक हो सकती हैं। ग्लोबल न्यूज़ दुनिया भर के मार्केट्स को प्रभावित कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, 2008 के सबप्राइम मॉर्गेज क्राइसिस ने दुनिया भर के मार्केट्स को झटका दिया था। डोमेस्टिक न्यूज़ इवेंट्स जैसे चुनाव परिणाम का स्थानीय प्रभाव हो सकता है।

न्यूज़ या इवेंट्स का व्यापक वर्गीकरण

कॉर्पोरेट: कॉर्पोरेट न्यूज़ या इवेंट्स कंपनी विशिष्ट होते हैं। यह एक प्रोडक्ट, मर्जर और एक्वीजीशन, डिमर्जर, अर्निंग्स आदि का शुभारंभ हो सकता है। तिमाही अर्निंग्स जैसे इवेंट्स निर्धारित किए जाते हैं क्योंकि एक्सचेंजों को इसके बारे में सूचित करना होता है। तिमाही अर्निंग्स के परिणाम का काफी अनुमान लगाया जा सकता है और उसके अनुसार ट्रेडों की योजना बनाई जा सकती है। हालांकि, कुछ अनिर्धारित कॉर्पोरेट इवेंट्स या अनाउंसमेंट हैं जो स्टॉक प्राइस पर प्रभाव का अनुमान लगाने में चुनौतियों का सामना कर सकती हैं।

डेटा संचालित: ये अनुसूचित इवेंट्स हैं जैसे कि रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (आरबीआई) की द्वि-मासिक पॉलिसी रिव्यु, इंफ्लेशन जैसे डेटा जारी करना, ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट्स (जीडीपी) में वृद्धि जैसे तिमाही मैक्रो संकेतक, रोजगार डेटा इत्यादि। ये डेटा पॉइंट्स ट्रेडों के लिए तदनुसार योजना बनाने की अनुमति देते हैं। हालांकि, कई बार मैक्रो इंडिकेटर्स मार्केट को चौंका सकते हैं। अप्रत्याशित की उम्मीद करने के बारे में सावधान रहना होगा। उदाहरण के लिए, विशेष रूप से अमेरिका में प्रकाशित कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस इन्वेंटरी जैसी रिपोर्टों के दौरान, इन मार्केट्स और इन ऊर्जा वस्तुओं की कीमतों में उस समय के आसपास अत्यधिक अस्थिरता पाई जा सकती है। कई वेबसाइट इकनॉमिक कैलेंडर देती हैं जिसमें वे तिथियां होती हैं जिन पर विभिन्न इकनॉमिक डेटा जारी होने की उम्मीद होती ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं है।

पॉलिसीस: मैक्रो-इकोनॉमिक न्यूज़ जैसे पॉलिसीस में बदलाव या नई नीतिगत पहल, टैक्सेशन इंडस्ट्रियल पॉलिसीस में बदलाव जो आम तौर पर देश में सभी को प्रभावित करते हैं। उन्हें विशेष उद्योगों तक ही सीमित रखा जा सकता है।

उदाहरण ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं के लिए, बजट में लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट पर कॅपिटल गेन्स टॅक्स की घोषणा स्टॉक की कीमतों को प्रभावित कर सकती है। इसी तरह, 20 वर्षों में वाहनों को स्क्रैप करने जैसी पॉलिसीस पर सरकार का निर्णय ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री को प्रभावित कर सकता है। जिससे नए वाहनों की मांग बढ़ेगी और ऑटोमोबाइल सेक्टर को मदद मिलेगी।

जिओपोलिटिकल: जिओपोलिटिकल इवेंट्स का दुनिया भर के मार्केट्स पर भारी प्रभाव पड़ सकता है। वे ग्लोबल इवेंट्स की रेंज हैं जिनमें युद्ध, संघर्ष, जलवायु परिवर्तन, प्रवास और ब्रेक्सिट जैसी प्रमुख पॉलिटिकल इवेंट्स शामिल हो सकती हैं।

ब्लैक स्वान इवेंट्स : वे अप्रत्याशित, नकारात्मक और दुर्लभ इवेंट्स हैं जिनके गंभीर परिणाम होते हैं। कई लोग कोविड-19 को एक काले हंस की घटना मानते हैं, हालांकि उस दृष्टिकोण को ब्लैक स्वान की अवधारणा पेश करने वाले सांख्यिकीविद् नसीम निकोलस तालेब ने चुनौती दी है। ब्लैक स्वान के समय में ट्रेडिंग करना वास्तव में चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

न्यूज़ और इवेंट्स के आधारित ट्रेडिंग

  • न्यूज़ या इवेंट्स पर ट्रेडिंग करने के लिए अनुभव और स्टॉक पर उनके प्रभाव को समझने की क्षमता की आवश्यकता होती है
  • न्यूज़ से लाभ उठाने में सक्षम होने के लिए न्यूज़ की सही व्याख्या करने में सक्षम होना चाहिए
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हमें इस बात पर विचार करने की आवश्यकता है कि क्या न्यूज़ को पहले ही कीमत में शामिल कर लिया गया है या यदि कीमत में बदलाव के लिए और जगह बाकि है

ऐसे कई तरीके हैं जिनसे न्यूज़ का ट्रेड किया जा सकता है लेकिन आइए हम दो व्यापक तरीकों पर टिके रहें:

दिशात्मक ट्रेड : इस ट्रेड में, न्यूज़ से सकारात्मक अपेक्षा के आधार पर कीमत बढ़ती है। जैसे ही खबर आती है, कीमत बढ़ती रहती है, और जब खबर कन्फर्म होती है, तो इस ट्रेंड की पुष्टि भी होती है। यह नकारात्मक न्यूज़ के विपरीत है।

रिवर्सल ट्रेड: इस ट्रेड में सकारात्मक खबर की उम्मीद से शेयर की कीमत ऊपर होती है। हालाँकि, जैसे ही न्यूज़ आती है, कीमत गति को जारी रखने में विफल रहती है। यह या तो एक विशेष सीमा में रहता है या तेजी से नीचे जाने लगता है। कोई भी यहां अपना लॉन्ग ट्रेड बुक कर सकता है और शॉर्ट के लिए जा सकता है। यह नकारात्मक न्यूज़ के विपरीत है।

न्यूज़ ट्रेडिंग में प्रमुख पॉइंट्स में से एक आपके स्टॉप लॉस का स्थान है। न्यूज़ का एक पार्ट हमेशा अस्थिरता को ट्रिगर करता है जिसके परिणामस्वरूप तेज कीमतों में उतार-चढ़ाव होता है। यदि कोई स्टॉप लॉस नहीं रखता है तो उसे नुकसान उठाना पड़ सकता है।

फायदे और नुकसान

फायदे : यदि यह एक नियमित डेटा-संचालित या एक नियोजित कॉर्पोरेट घटना है तो ट्रेड की योजना बनाई जा सकती है । ट्रेड को एंट्री, एग्जिट और स्टॉप लॉस से ही प्लान किया जा सकता है। एक ही दिन में कई ट्रेड के अवसर संभव हैं।

नुकसान: न्यूज़ बेस्ड ट्रेडिंग में रिस्क भी होती हैं। रातोंरात पोजीशन लेना जोखिम भरा है क्योंकि खबर नकली हो सकती है या इसकी पुष्टि नहीं हो सकती है। जैसे ही न्यूज़ प्रवाह के साथ अस्थिरता का निर्माण शुरू होता है, बिड/आस्क स्प्रेड का परिणाम बड़े पैमाने पर हाई इंपैक्ट कॉस्ट में हो सकता है। ट्रेडर को ट्रेड दक्षिण की ओर जाते ही उससे बाहर निकलने के लिए कुशल और फुर्तीला होना चाहिए।

बाजार में भारी उतार-चढ़ाव के बीच शेयर मार्केट में इन 10 बातों का रखें ध्यान, नुकसान से बचेंगे और फायदे में रहेंगे

 शेयर बाजार लॉन्ग टर्म के लिए निवेश की बेहतर जगहों में से एक है न कि जुआ घर. मजबूत कंपनी में निवेश करिए और लंबे समय या मध्यम अवधि के लिए अच्छा रिटर्न पाइए.

शेयर बाजार लॉन्ग टर्म के लिए निवेश की बेहतर जगहों में से एक है न कि जुआ घर. मजबूत कंपनी में निवेश करिए ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं और लंबे समय या मध्यम अवधि के लिए अच्छा रिटर्न पाइए.

शेयर बाजार में आए नए या युवा निवेशक अक्सर कुछ सामान्य गलतियां करते हैं. इस वजह से उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ता है. कि . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : February 28, 2022, 08:05 IST

Investment Tips: रूस-यूक्रेन संकट के बीच दुनिया भर के शेयर बाजार में भारी उतार-चढ़ाव चल रहा है. भारतीय शेयर बाजार में उथल-पुथल जारी है. इन सबके बीच निवेशक सोच रहे हैं कि कहां और कैसे निवेश करें. किन गलतियों से बचें और क्या करें ? खासतौर से कोरोना के बाद कोरोड़ों की संख्या में नए डिमैट अकाउंट खुले हैं. इन नए निवेशकों को कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना जरूरी है.

शेयर बाजार में आए नए या युवा निवेशक अक्सर कुछ सामान्य गलतियां करते हैं. इस वजह से उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ता है. किसी निवेशक को कुछ बुनियादी बातों को जरूर सीखना चाहिए और सामान्य सी गलतियां करने से बचना चाहिए.

आईए जानते हैं ऐसी ही दस प्रमुख बातें …

1- पहले कंपनी को समझें
यह निवेश का पहला और बेसिक नियम है, जिसे हर एक निवेशक को फॉलो करना चाहिए. वैसे हर आदमी से यह उम्मीद करना मुश्किल है कि वह हर एक कंपनी की समझ रखे. इसके बावजूद हमें प्रयास करना चाहिए कि कम से कम कंपनी के बिजनेस की बेसिक समझ रखें, जैसे कंपनी क्या करती है और अपनी ट्रेडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं प्रतिद्वन्दी कंपनियों के सामने कैसे खड़ी है.

2- पोर्टफोलियों कैसा होना चाहिए
अक्सर हम देखते हैं कि निवेशक या तो अपने पोर्टपोलियो में विविधता नहीं रखते या फिर अत्यअधिक विविधता कर लेते हैं. जबकि इन दोनों के बीच संतुलन रखना सबसे महत्वपूर्ण है. जैसे मान लीजिए आपके पास दस शेयर हैं और आपने किसी एक या दो सेक्टर के ही सारे शेयर ले रखें हैं. इससे बचना चाहिए. दस में से दो बैंकिंग सेक्टर, दो मेटल सेक्टर, दो फार्मा सेक्टर, दो टेक सेक्टर इस तरह से पोर्टफोलियों में विविधता रखनी चाहिए. ज्यादा संख्या में भी शेयर रखने से बचना चाहिए. इसलिए जोखिम से बचने के लिए एक संतुलित वाली पोर्टफोलियों रखें.

3- दूसरे के पोर्टफोलियो का अनुकरण
सफल निवेशकों के पोर्टफोलियो को देखना गलत नहीं है और शुरुआत में उसके निवेश निर्णय से आप भी सीख सकते हैं. इसके साथ ही निवेश की अपनी समझ विकसित करें. लंबे समय में दूसरे को ब्लाइंडली फॉलो करना खतरनाक होता है क्योंकि हर निवेशक के पास विभिन्न फैक्टर होते और अपने प्लान होते हैं. इस चीज को आप ऐसे समझ सकते हैं कि हम सभी जानते हैं कि कार कैसे चलाते हैं लेकिन जब आप सड़क पर गाड़ी लेकर जाते हैं तो सामने वाली कार को देख कर चलाते हैं या अपने हिसाब से निर्णय लेते हैं. सामने वाली कार को फॉलो करना कितना खतरनाक हो सकता है यह आप समझ सकते हैं. यही स्थिति निवेश में भी होती है.

4- अपने निवेश के साथ भावनात्मक लगाव न रखें
सबसे खराब निवेश के निर्णय वो होते हैं जो आप भावनाओं के आधार पर लेते हैं या फिर आपके निर्णय लेने की प्रक्रिया को आपके इमोशन प्रभावित करते हैं. यह देखने की बजाय कि कंपनी का प्रदर्शन और उसका फंडामेंटल कैसा है.

5- अपनी निवेश के सिद्धांत पर अडिग रहें
जब हम किसी कंपनी को निवेश के लायक समझते हैं तब हम उससे संबंधित कुछ प्रमुख निर्धारक बिंदु देखते हैं. कंपनी कितना विकास करेगी और भविष्य में कंपनी की रणनीति क्या होगी, ऐसी बहुत सारी चीजें हम समझते हैं. यह कंपनी का एक्सपेंसन प्रोजेक्ट, रेवेन्यू ग्रोथ, मार्केट शेयर गेन, प्रोडक्ट की आगे वैल्यू एडिशन जैसे महत्वपूर्ण बिंदु होते हैं. यदि इनमें से किसी भी चीज को आप निवेश के बाद गड़बड़ होते हुए पाते हैं तो तुरंत समीक्षा करिए.

6. घाटे से डरिए मत, सीखिए
हां, यह हर निवेशक के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज है इसे सीखना और इससे बचना. सभी लोग कभी न कभी, किसी न किसी स्टॉक में गलत निर्णय ले लेते हैं, यह कोई बड़ी बात नहीं है. यह हमारे सीखने की प्रक्रिया का भी हिस्सा है. अगर कभी आप गलत शेयर ले लिए हैं और घाटा हो रहा है तो घाटे से डरिए मत, उससे निकल लीजिए. ज्यादा देर मत करिए और किसी दूसरे स्टॉक में मौका देखिए. घाटे से डरिए मत, सीखिए.

7. पेनी स्टॉक से बचना चाहिए
अक्सर नए निवेशक जल्दी पैसा कमाने के चक्कर में पेनी स्टॉक में पैसा लगा देते हैं. किसी दूसरे का सुन के कि इस 2 रुपए के स्टॉक ने 6 महीने में 500 फीसदी रिटर्न दिया, निवेश नहीं करना चाहिए. सैमको सिक्योरिटी के रिसर्च हेड उमेश मेहता कहते हैं पेनी स्टॉक जब चढ़ता है या उसमें अपर सर्किट लगने लगता है तो लोग पैसा लगाने के लिए जल्दीबाजी करने लगते है. लेकिन जब पेनी स्टॉक गिरता है या उसमें लोअर सर्किट लगता है तो निवेशक शेयर बेट भी नहीं पाते औऱ घाटा उठाना पड़ता है. इसलिए हमेशा फंडामेंटली मजबूत कंपनियों में निवेश करें.

8- जल्दी से जल्दी करोड़पति बनने की चाहत वाले शेयर बाजार से दूर रहें
अक्सर नए निवेशक शेयर बाजार में रातों रात करोड़पति बनना चाहते हैं. वो किसी और का सुन रख होते हैं या फिर बाजार को सट्टा का अड्डा समझते है. ऐसा सोचने वालों को बाजार से दूर रहना चाहिए. शेयर बाजार लॉन्ग टर्म के लिए निवेश की बेहतर जगहों में से एक है न कि जुआ घर. मजबूत कंपनी में निवेश करिए और लंबे समय या मध्यम अवधि के लिए अच्छा रिटर्न पाइए.

9 – नए निवेशकों को इंट्रा डे ट्रेडिंग से बचना चाहिए
वर्तमान में बाजार में बहुत ही ज्यादा उतार-चढ़ाव है. सामान्य परिस्थिति में भी नए निवेशक को इंट्रा डे ट्रेडिंग से बचना चाहिए. यहीं जल्दी पैसा डूबता है. क्योंकि आपको बाजार का लंबा अनुभव औऱ ज्ञान नहीं है. बारिकियां नहीं पता है. लिहाजा घाटा होने की आशंका बहुत ज्यादा होती है. इसलिए बेहतर कंपनी में निवेश करें न कि इंट्रा डे ट्रेडिंग करें.

10- जितना पैसा लगाइए उतना ही ज्यादा पढ़िए
शेयर बाजार में आप जितना ज्यादा पैसा लगा रहे हैं उतना ही ज्यादा पढ़िए. मार्केट, कंपनी, रिजल्ट, विशेषज्ञों की सलाह, ग्लोबल मार्केट का रूख इन सारी चीजों के बारे में जितना जानेंगे, आपके लिए बेहतर होगा.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

रेटिंग: 4.72
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 505
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *