सर्वश्रेष्ठ विदेशी मुद्रा दलाल

कैसे रोल ओवर काम करता है

कैसे रोल ओवर काम करता है

ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर अटैचमेंट के साथ रोड क्रू के लिए बढ़ी सुरक्षा

रोड वाइडनर एलएलसी।, अभिनव सड़क निर्माण उपकरण की एक अग्रणी निर्माता, उद्योग की पहली पेशकश करता है ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर अनुरक्ति। अटैचमेंट का ऑफसेट, पेटेंट डिज़ाइन मेजबान मशीन को सड़क के किनारे ढलान वाले कंधों, खाई और अन्य कठिन-से-पहुंच वाले क्षेत्रों को संकुचित करते हुए समतल जमीन पर सुरक्षित रूप से ड्राइव करने की अनुमति देता है, एक ऐसा कार्य जिसने पारंपरिक रूप से सड़क कर्मचारियों को रोलओवर दुर्घटनाओं के खतरे में डाल दिया है, श्रमिकों में वृद्धि हुई है ' COMP की लागत और खराब सुरक्षा रेटिंग का कारण बना। ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर अधिकांश लोडर, ग्रेडर, कॉम्पैक्ट ट्रैक लोडर और स्किड स्टीयर से जुड़ता है, जो मेजबान मशीन के इंजन और हाइड्रोलिक्स को संचालित करता है। शक्ति के लिए मेजबान मशीन का उपयोग स्व-चालित रोलर्स पर रखरखाव को 90% तक कम कर देता है, जबकि तीन विनिमेय ड्रम आकारों और 30-डिग्री धुरी कोणों की बहुमुखी प्रतिभा की पेशकश भी करता है।

रोड वाइडनर, एलएलसी अध्यक्ष लिन मार्श ने कहा, "एक फ़र्श ठेकेदार के लिए काम करने में वर्षों बिताने के बाद, मैंने पहली बार एक ढलान पर सुरक्षा का त्याग करने के दैनिक संघर्षों को देखा।" "ढोने का जोखिम अधिक है, लेकिन चुनौती का समाधान करने के लिए कुछ विकल्प थे। ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर एक व्यवहार्य विकल्प प्रदान करता है, जिससे ठेकेदारों को दुर्घटना को जोखिम में डाले बिना जल्दी और कुशलता से काम करने की अनुमति मिलती है। यह गेम चेंजर है।"

ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर पत्थर, डामर, बजरी और ऊपरी मिट्टी सहित विभिन्न सामग्रियों को संकुचित करता है। एक बार होस्ट मशीन के लिफ्ट आर्म से जुड़ जाने के बाद, ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर होस्ट मशीन के हाइड्रोलिक्स से आसानी से जुड़कर और रिमोट कंट्रोल को जोड़कर संचालित हो जाता है। वहां से, ऊंचाई, कोण, विस्तार और संघनन समायोजन सहित अनुलग्नक के सभी पहलुओं को रिमोट कंट्रोल के माध्यम से एक एकल चालक दल द्वारा संचालित किया जा सकता है।

ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर की कुल पहुंच 9 फीट है और इसे 2-, 3- या 4-फुट चौड़ा (61-, 91- या 121.9-सेमी) ड्रम के साथ खरीदा जा सकता है। ड्रम 30 डिग्री तक धुरी कर सकते हैं, बढ़ते बिंदु के नीचे 30 इंच (76.2 सेमी) तक पहुंच सकते हैं, और विनिमेय हैं। यह सड़क के कर्मचारियों को विफल होने वाले इंजनों के साथ कई स्व-चालित मशीनों में निवेश करने के बजाय अतिरिक्त ड्रम खरीदकर अलग-अलग आकार और समुच्चय के काम करने की अनुमति देता है। इसके अतिरिक्त, कंपन सुविधा इष्टतम संघनन के लिए प्रति मिनट 2,500-3,500 कंपन के बीच संचालित होती है।

स्व-चालित संघनन मशीनों पर ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर का उपयोग करना, जिसमें टिपिंग का अधिक जोखिम होता है, श्रमिकों के COMP दावों को कम करने, बीमा प्रीमियम को कम करने और ठेकेदारों की सुरक्षा रेटिंग बढ़ाने में मदद करता है - बोली लगाने और नौकरी जीतने के लिए सभी आवश्यकताएं।

ऑफ़सेट वाइब्रेटरी रोलर को ऑफ़सेट वाइब्रेटरी रोलर के यूनिवर्सल माउंटिंग पैड में होस्ट मशीन के लिफ्ट आर्म पैड डालकर किसी भी होस्ट लोडर, स्किड स्टीयर, कॉम्पैक्ट ट्रैक लोडर या रोड ग्रेडर से जोड़ा जा सकता है। कॉम्पैक्ट बैकहो और टेलीस्कोपिक लोडर जैसी मेजबान मशीनों के लिए एक एडेप्टर प्लेट भी उपलब्ध है जो मानक अनुलग्नकों को स्वीकार करने के लिए आसानी से सेटअप नहीं हो सकती है। ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर मानक और उच्च प्रवाह हाइड्रोलिक्स के साथ संगत है।

ऑफ़सेट वाइब्रेटरी रोलर बिना इंजन, पावरट्रेन, या अपने स्वयं के किसी भी संबंधित हिस्से के बिना संचालित होता है, जो पारंपरिक इंजन और ट्रांसमिशन सेवा को काटकर स्व-चालित मशीनों की तुलना में 90% कैसे रोल ओवर काम करता है कम रखरखाव करता है। इसके बजाय, ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर में पांच ग्रीस फिटिंग होते हैं जिन्हें हर 10 घंटे में चिकनाई करने की आवश्यकता होती है, या प्रतिकूल परिस्थितियों में काम करने पर अधिक बार। सामान्य सफाई के साथ-साथ मानक हार्डवेयर और हाइड्रोलिक जांच भी दैनिक रखरखाव दिनचर्या का हिस्सा हैं।

मार्श ने कहा, "हमने ऑफसेट वाइब्रेटरी रोलर का निर्माण उपकरण ठेकेदारों पर फिट करने के लिए किया है और इससे परिचित हैं।" "डिजाइन सरल रखरखाव, आसान परिवहन की अनुमति देता है और एक बेजोड़ आरओआई प्रदान करता है।"

फिजिकल सेटेलमेंट पर जानकारी

अभी कुछ समय पहले तक भारत कैसे रोल ओवर काम करता है में इक्विटी फ्यूचर और ऑप्शन में जो ट्रेड होता था उसे कैश में सेटल किया जाता था। मतलब यह कि कॉन्ट्रैक्ट के एक्सपायर होने पर खरीदार और बिकवाल दोनों अपनी पोजीशन को कैश से सेटल करते थे और अंडरलाइंग सिक्योरिटी की डिलीवरी लेते या देते नहीं थे। 11 अप्रैल 2018 को सेबी ( SEBI) ने एक सर्कुलर जारी किया जिसमें F&O के सभी कॉन्ट्रैक्ट के लिए स्टॉक की फिजिकल डिलीवरी की जरूरत को धीरे धीरे आवश्यक बनाने का ऐलान किया गया था। इसके जरिए ये कोशिश की गई कि बाजार में होने वाली सट्टेबाजी पर रोक लगाई जा सके और शेयरों में अतिरिक्त वोलैटिलिटी यानी उठा-पटक को रोका जा सके।

13.2 – फिजिकल डिलीवरी क्या होती है ?

इसका मतलब यह है कि F&O के सभी कॉन्ट्रैक्ट के खत्म होने पर उनकी अंडरलाइंग सिक्योरिटी की डिलीवरी लेनी या देनी होगी। अक्टूबर 2019 से सभी स्टॉक चाहे वो F&O के किसी भी कॉन्ट्रैक्ट में हो, उनके सेटलमेंट के लिए फिजिकल डिलीवरी को जरूरी कर दिया गया।

इसको एक उदाहरण से समझते हैं, फिजिकल सेटलमेंट की शुरुआत के पहले, अगर आपने इस महीने एक्सपायर होने वाले SBI फ्यूचर्स का एक लॉट खरीदा था तो एक्सपायरी पर आपको कैश सेटेलमेंट करना होता और सेटलमेंट कीमत के हिसाब से सिर्फ उतने रुपए आपके अकाउंट से निकल जाते या आ जाते थे। इस अध्याय में हमने इस बात पर चर्चा की है कि मार्क टू मार्केट सेटलमेंट कैसे काम करता है। लेकिन फिजिकल सेटलमेंट की परिस्थिति में अगर आपने अपनी पोजीशन को रोल ओवर या बंद नहीं किया तो फिर एक्सपायरी के समय आपको कॉन्ट्रैक्ट की कुल कीमत चुकानी होगी और बचे हुए शेयर आपके डीमैट एकाउंट में डिलीवर हो जाएंगे।

13.3 – फिजिकल सेटलमेंट को क्यों लागू किया गया ?

अगर कॉन्ट्रैक्ट को कैश में सेटल किया जा रहा है तो ट्रेडर को अपने अकाउंट में कॉन्ट्रैक्ट के लिए सिर्फ मार्जिन (स्पैन + एक्सपोजर – SPAN +Exposure ) को रखना जरूरी होता है। इस वजह से शॉर्ट करने वाले एक्सपायरी के आसपास बहुत ज्यादा शॉर्ट पोजीशन बनाते चले जाते हैं जिससे कीमत बहुत ज्यादा नीचे चली जाती है। जबकि फिजिकल सेटलमेंट में ट्रेडर्स को या तो स्टॉक बाजार से खरीदना होगा या फिर SLB मार्केट से उधार पर लेना होगा जिससे वह उस स्टॉक के डिलीवरी सामने वाले पार्टी को दे सके। ऐसा करने से कीमत में एक संतुलन आ जाता है और कीमत को तोड़ा मरोड़ा नहीं जा सकता।

13.4 – पोजीशन सेटल कैसे की जाती है ?

एक्सपायरी पर अलग अलग F&O कॉन्ट्रैक्ट को इस तरह से सेटल किया जाता है

  1. डिलीवरी लेना (आपके डीमैट अकाउंट में शेयर आ जाते हैं) – लॉन्ग फ्यूचर्स, लॉन्ग ITM कॉल , और शॉर्ट ITM पुट
  2. डिलीवरी देना (आपको स्टाक एक्सचेंज को डिलीवर करना पड़ता है) शॉर्ट फ्यूचर, शॉर्ट ITM कॉल और लॉन्ग ITM पुट

केवल ITM ऑप्शन का फिजिकल सेटलमेंट होता है क्योंकि अगर ऑप्शन OTM एक्सपायर होता है तो वह वर्थलेस हो जाता है यानि की उसकी कोई कीमत नहीं होती और इसलिए उसमें डिलीवरी की कोई जरूरत नहीं होती।

13.5 – पोजीशन का नेट निकालना

* Definition of Netting . A method of reducing credit, settlement and other risks of financial contracts by aggregating (combining) two or more obligations to कैसे रोल ओवर काम करता है achieve a reduced net obligation.

अगर आपने एक ही एक्सपायरी वाले अंडरलाइंग में बहुत सारी पोजीशन ले रखी है जिससे कि आप एक हेज बना सकें, तो, फिर उस ट्रेड की दिशा के हिसाब से उनकी एक नेट पोजीशन निकाली जाएगी।

उदाहरण के लिए अगर आपने SBI का जून फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट लॉन्ग किया है और ITM पुट को 200 की स्ट्राइक पर लॉन्ग किया है ( SBI की स्पॉट कीमत 180 है), तो फिर फ्यूचर लॉन्ग पोजीशन के लिए आपको डिलीवरी लेनी होगी और लॉन्ग पुट ऑप्शन के लिए डिलीवरी देनी होगी। आपके अकाउंट के इन दोनों सौदों की वजह से आपको किसी फिजीकल डिलीवरी की जरूरत नहीं होगी।

13.6 – मार्जिन

जब आप फ्यूचर के लिए या शॉर्ट ऑप्शन के लिए F&O सेगमेंट में ट्रेड कर रहे होते हैं , तो आपको अपने अकाउंट में सिर्फ मार्जिन की रकम रखनी पड़ती है। जब लॉन्ग ऑप्शन पोजीशन होती है तो आपको प्रीमियम देने के लिए उतनी रकम अकाउंट में रखनी पड़ती है। लेकिन फिजिकल सेटलमेंट में यह स्थिति बदल जाती है। आपको अपने कॉन्ट्रैक्ट की 100% कीमत अकाउंट में रखना होता है क्योंकि एक्सपायरी पर आपको कॉन्ट्रैक्ट की डिलीवरी लेनी पड़ती है या फिर स्टॉक की डिलीवरी देनी होती है। इसीलिए एक्सपायरी के आसपास ब्रोकर आपके लिए अतिरिक्त मार्जिन लगाते हैं। आप जेरोधा की फिजिकल सेटलमेंट पॉलिसी को यहां here पर पढ़ सकते हैं।

ये कंपनी दे रही खास ऑफर, रात में इंटरनेट फ्री, वीकेंड पर मिलेगा बचा हुआ डेटा और कई फायदे

Vi Hero Unlimited Offer: टेलीकॉम कंपनियां रिचार्ज के साथ कुछ खास ऑफर देती हैं. ऐसा ही एक ऑफर वोडाफोन आइडिया अपने कई प्लान्स के साथ देता है. इस ऑफर के तहत यूजर्स को फ्री डेटा, वीकेंड डेटा रोलओवर और कई दूसरे फायदे मिलते हैं. आइए जानते हैं इसकी डिटेल्स.

Vi Hero Unlimited ऑफर में मिलेंगे कई फायदे

aajtak.in

  • नई दिल्ली,
  • 30 जून 2022,
  • (अपडेटेड 30 जून 2022, 7:44 PM IST)
  • Vi देता है हीरो अनलिमिटेड ऑफर
  • मिलता है रात में फ्री डेटा और बहुत कुछ
  • कई सर्विसेस कैसे रोल ओवर काम करता है का फायदा उठा सकते हैं आप

टेलीकॉम कंपनियां कई तरह के ऑफर्स यूजर्स को लुभाने के लिए देती हैं. मसलन जियो रिचार्ज के साथ यूजर्स को जियो ऐप्स का कॉम्प्लिमेंट्री सब्सक्रिप्शन मिलता है. कुछ प्लान्स के साथ कंपनी डिज्नी प्लस हॉटस्टार का सब्सक्रिप्शन भी देती है. वहीं एयरटेल यूजर्स को एयरटेल थैंक्स का बेनिफिट मिलता है.

कई रिचार्ज प्लान में कंपनी स्ट्रीमिंग सर्विसेस का एक्सेस भी देती है. ऐसा ही एक ऑफर Vi यानी वोडाफोन आइडिया भी देता है. वोडाफोन आइडिया के कई प्लान्स में Vi Hero Unlimited मिलता है.

इस ऑफर के साथ यूजर्स को कई सारे लाभ मिलते हैं. बिंग ऑल नाइट, वीकेंड डेटा रोलओवर और डेटा डिलाइट ऑफर. Vi इस ऑफर को 299 रुपये के ऊपर के रिचार्ज के साथ ऑफर करता है. आइए समझते हैं इन बेनिफिट्स के बारे में.

सम्बंधित ख़बरें

जबरदस्त ऑफर! 75 रुपये का रिचार्ज, डेटा, कॉल और SMS सब मिलेगा
इस कंपनी ने किया कमाल! 10 रुपये में कर सकेंगे कॉल और SMS
जबरदस्त ऑफर! इस कंपनी ने निकाला गजब का प्लान, मिलेगा फुल टॉकटाइम
Jio दे रहा दो साल तक अनलिमिटेड कॉलिंग और डेटा, साथ में फोन फ्री
एयरटेल के सस्ते प्लान्स, 19 रुपये से शुरू है कीमत, जानिए डिटेल

सम्बंधित ख़बरें

क्या हैं इसके फायदे?

बिंग ऑल नाइट की बात करें तो यूजर्स रात 12 बजे से सुबह 6 बजे तक बिना किसी एक्स्ट्रा चार्ज के डेटा यूज कर सकते हैं. यूजर्स को इस दौरान अनलिमिटेड डेटा मिलता है. वहीं वीकेंड डेटा रोलओवर बड़े ही काम का ऑफर है.

ऑफर के तहत यूजर्स अपने हफ्ते भर के बचे हुए डेटा को वीकेंड पर यूज कर सकते हैं. इसके अलावा यूजर्स को डेटा डिलाइट ऑफर मिलता है. इसके तहत कंपनी 2GB बैकअप डेटा हर महीने अपने यूजर्स को देती है.

Vi Hero Unlimited ऑफर में यूजर्स को Vi मूवी और टीवी का भी एक्सेस मिलता है, जिस पर फ्री में टीवी और मूवी देख सकते हैं. यानी आप इन सभी सुविधाओं का फायदा रिचार्ज के साथ फ्री में उठा सकते हैं.

किन रिचार्ज के साथ मिलता है?

वोडाफोन इस ऑफर को चुनिंदा रिचार्ज प्लान्स के साथ ऑफर करता है. आप 299 रुपये, 359 रुपये, 479 रुपये और 719 रुयपे के प्लान में इन ऑफर्स का फायदा उठा सकते हैं.

इसके अलावा भी आपको कई रिचार्ज प्लान में Vi Hero Unlimited Offer का एक्सेस मिलता है. इन बेनिफिट्स के साथ Vi Hero Unlimited बेहद खास प्लान है.

कितने ईरा रोलओवर आप एक वर्ष में कर सकते हैं?

एक इरा को दूसरी योजना में शामिल करना एक महान योजना की तरह लगता है, खासकर अगर कर बचत सुनिश्चित करता है। आंतरिक राजस्व सेवा ने, हालांकि, एक वर्ष में आप कितने रोलओवर कर सकते हैं, इसकी एक सीमा रखी है। आप प्रति वर्ष केवल एक बार प्रति रोलओवर कर सकते हैं। तो इससे पहले कि कैसे रोल ओवर काम करता है आप अपनी रोलओवर योजनाओं को दृढ़ करें, सभी संभावित परिणामों पर ध्यान दें।

एक बार 12 महीने में

कैलेंडर वर्ष में एक बार 12 महीनों में एक बार आईआरएस की सख्ती को भ्रमित न करें। स्पष्ट रूप से, एक कैलेंडर-ईयर नियम के तहत, आप एक साल के दिसंबर में एक रोलओवर कर सकते हैं और अगले साल के जनवरी में। एक बार 12 महीनों में इसका मतलब है कि अगर आप जुलाई 2013 में रोलओवर करते हैं तो आप जुलाई 2014 तक दूसरा काम नहीं कर सकते।

प्रति खाता नियम

उल्टा यह है कि आईआरएस एक बार-प्रति-वर्ष नियम अलग से प्रत्येक IRA के लिए आपके द्वारा लागू किया जाता है। इसलिए यदि आपके पास तीन IRA हैं, तो आप समान 12-महीने की अवधि में प्रत्येक के लिए रोलओवर कर सकते हैं। बस यह सुनिश्चित करें कि आप एक ही खाते से रोलओवर के बीच 12 महीनों को समाप्त होने दें।

रोलओवर संभावनाएँ

2001 से पहले, आप केवल IRA परिसंपत्तियों को दूसरे IRA में रोल कर सकते थे। हालांकि, आर्थिक विकास और कर राहत सुलह अधिनियम ने उस सब को बदल दिया। अब आप एक पारंपरिक IRA को एक 401 (k), 457 (b) या 403 (b) योजना में स्थानांतरित कर सकते हैं, साथ ही साथ एक मुद्रा खरीद, लाभ-साझाकरण या परिभाषित-लाभ योजना में बदल सकते हैं। इसके अलावा, आप उनमें से किसी भी योजना को एक पारंपरिक इरा में रोल कर सकते हैं। आप एक पारंपरिक IRA को Roth IRA या SEP-IRA में स्थानांतरित कर सकते हैं। हालाँकि, आप पारंपरिक IRA को SIMPLE IRA या नामित रोथ खाते में रोल नहीं कर सकते। दिलचस्प बात यह है कि IRS ने दो साल तक SIMPLE IRA आयोजित करने के बाद आपको एक पारंपरिक IRA में एक SIMPLE IRA रोल करने की अनुमति दी है। आईआरएस एक रोथ इरा को किसी अन्य रोथ इरा के अलावा किसी अन्य चीज में ले जाने से मना करता है।

एक इरा से उधार लेना

आप यह भी मान सकते हैं कि यह विश्वास है या नहीं, एक IRA से फंड लें और खाते से अल्पकालिक ऋण लेने के प्रभाव में, 60 दिनों के भीतर उसी IRA पर वापस लौटें। जब तक आप पैसे वापस खाते में डालते हैं, तब तक आईआरएस घटनाओं की श्रृंखला को रोलओवर मानता है। हालाँकि, 61st दिन, वितरण पर लागू होने वाले किसी भी कर या दंड को ट्रिगर किया जाएगा। यदि आप 59 1 / 2 से कम उम्र के हैं और एक पारंपरिक IRA से पैसे लेते हैं, तो आपको न केवल निकाली गई राशि पर बल्कि 10 प्रतिशत के दंड पर भी आयकर देना होगा। यदि, 59 1 / 2 की आयु से पहले, आप एक रोथ से पैसे लेते हैं, जो आपके पास पांच साल से कम समय के लिए है, तो आप किसी भी कमाई पर कर और जुर्माना लगाते हैं। यदि आपके पास पाँच साल या उससे अधिक का खाता है, तो आपको सिर्फ 10 प्रतिशत जुर्माना देना होगा।

लेखक: Gail Jennings

गेल जेनिंग्स 27 वर्षीय पत्रकार हैं। बुराई अंतर्मुखी। कुल कॉफी उत्साह। व्यवस्था करनेवाला। पुरस्कार विजेता बीयर प्रशंसक। लेखक। सोशल मीडिया के विद्वान। कम्युनिकेटर। इंटरनेट का शौकीन।

तेज़ टाइपिंग करने वाले लोगों में ऐसा क्या जादू होता है

टाइपिंग

धीमी टाइपिंग करने वाले सोचते हैं कि काश! हमारी भी टाइपिंग स्पीड ऐसी ही होती. लेकिन क्या होता है तेज़ टाइपिंग सीखने का नुस्खा?

माना जाता है कि ऑनलाइन गेमिंग के शौक़ीनों की टाइपिंग की रफ़्तार सबसे ज़्यादा होती है.

फिनलैंड की ऑल्टो और ब्रिटेन की कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी ने दुनिया भर में क़रीब 1 लाख 68 हज़ार लोगों की टाइपिंग के तरीक़े पर बारीक़ी से ग़ौर किया.

उन्होंने पाया कि गेम खेलने वाले अक्सर 'रोलओवर टाइपिंग' करते हैं. इसका मतलब ये कि ये लोग पिछली की छोड़ने से पहले ही बाद वाले अक्षर का बटन दबा देते हैं.

इमेज स्रोत, Getty Images/igor_kell

बात रोलओवर टाइपिंग की

ज़्यादातर गेम खेलने वाले बाएं हाथ से की-बोर्ड को कंट्रोल करते हैं और दाहिने हाथ से माउस चलाते हैं.

ऐसे लोग टाइप करते वक़्त अपने खेल के खिलाड़ियों को एक हाथ से ही काफ़ी रफ़्तार से भगा लेते हैं या कमांड देते हैं.

तेज़ टाइपिंग के लिए ज़रूरी है कि की-बोर्ड पर अगला बटन दबने से पहले पिछला बटन छूट जाए. वरना ग़लत कमांड चली जाती है.

ऐसा हुआ तो, सारा किया-धरा बेकार हो सकता है.

फिनलैंड की ऑल्टो यूनिवर्सिटी के रिसर्चर एंती ओलसविर्ता कहते हैं कि रॉलओवर टाइपिंग आम तौर पर क़ुदरती होती है. इसे सीखा नहीं जा सकता है.

हो सकता है कि टाइपिंग के वक़्त आप ये तरीक़ा इस्तेमाल करते हों और आपको इसके बारे में पता ही न हो.

इमेज स्रोत, Getty Images

एक मिनट में 108 शब्द

ओलसविर्ता का कहना है कि हर टाइप करने वाला अपने हिसाब से अपनी तकनीक सीखता है और रफ़्तार बढ़ाता है.

इस रिसर्च के मुताबिक़, आप जिस उंगली से कोई बटन दबाते हैं, उसी से हमेशा वो बटन दबाना चाहिए.

लेकिन, तेज़ टाइपिंग का अवॉर्ड जीत चुके शॉन व्रोना कहते हैं कि ऐसा नहीं है. हर शब्द के साथ बटन दबाने का तरीक़ा बदल जाता है.

शॉन दस साल की उम्र में ही एक मिनट में 108 शब्द टाइप कर लेते थे.

वो कहते हैं कि आम तौर पर जो बटन आपकी उंगली के क़रीब होती है, उसी उंगली से आप फलां बटन को दबाते हैं.

रोलओवर टाइपिंग अगर सीख नहीं सकते तो फिर तरीक़ा क्या है?

इमेज स्रोत, Getty Images

क्या तेज़ टाइपिंग के फ़ायदे होते हैं?

जिस टाइपिंग स्पीड को लेकर हम इतने फ़िक्रमंद हैं, उसकी शायद ज़रूरत ही ख़त्म हो जाए.

डिजिटल एक्सपर्ट बेन वुड कहते हैं कि 2022 तक लोग आवाज़ से कमांड देकर ज़्यादा सर्च करने लगेंगे. और ये टाइपिंग कमांड की जगह ले लेगा.

हालांकि इसका ये मतलब नहीं है कि टाइपिंग की ज़रूरत ही ख़त्म हो जाएगी.

ये ज़रूर है कि इसकी रफ़्तार के मुक़ाबले उतने दिलचस्प नहीं रह जाएंगे, क्योंकि तेज़ी से टाइपिंग की ज़रूरत अब कम होती जा रही है.

लेकिन, तेज़ टाइपिंग से किसी आदमी की ही नहीं, उसकी कंपनी की, उसके देश की प्रोडक्टिविटी भी बढ़ जाती है.

इमेज स्रोत, Getty Images

सिर्फ़ टाइपिंग की रफ़्तार से काम चलेगा?

टाइपिंग का मुक़ाबला जीतने वाले शॉन व्रोना मानते हैं कि तेज़ टाइपिंग ऐसी ख़ूबी है जो बहुत काम आ सकती है. हालांकि वो इसे इतना अहम भी नहीं मानते.

व्रोना कहते हैं कि बहुत कम लोग हैं जो अपने विचारों को फटाफट टाइप कर सकें.

आज ज़रूरत है कि लोग 30-40 शब्द प्रति मिनट की रफ़्तार को बढ़ा कर 60-80 शब्द प्रति मिनट की टाइपिंग स्पीड तक ले आएं.

ये रफ़्तार विचारों को तुरंत टाइप करने के लिए ज़रूरी है. इससे ज़्यादा रफ़्तार सिर्फ़ बड़बोले लोगों के काम आती है, जो ये दावा कर सकें कि वो सब से तेज़ टाइप करते हैं.

उत्पादकता बढ़ाने के लिए सिर्फ़ तेज़ टाइपिंग से काम नहीं चलेगा.

इमेज स्रोत, Dominic Lipinski/PA

प्रोडक्टिविटी पर असर

ब्रिटेन के प्रोडक्टिविटी एक्सपर्ट क्रिस ब्यूमोंट कहते हैं कि प्रोडक्टिविटी बेहतर करने के लिए टाइपिंग के अलावा दूसरे हुनर भी ज़रूरी हैं.

वो कहते हैं कि हम दिन भर टाइपिंग तो करते नहीं. जो इससे हमारी उत्पादकता बढ़ जाए. हम मीटिंग करते हैं. प्रेज़ेंटेशन तैयार करते और देते हैं.

सामान की आवाजाही का इंतज़ाम करते हैं. इनकी रफ़्तार का हमारी प्रोडक्टिविटी पर ज़्यादा असर होता है.

ब्यूमोंट कहते हैं कि हमारी बुद्धि की धार हमारी प्रोडक्टिविटी बढ़ाने में ज़्यादा अहम रोल निभाती है. टाइपिंग नहीं.

तो, फिर कभी अगर कोई तेज़ी से टाइप करता दिखे, तो उसको अक़्ल से मात देने की सोचिएगा. अपनी टाइपिंग स्पीड बढ़ाकर नहीं.

(बीबीसी कैपिटल पर इस स्टोरी को इंग्लिश में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. आप बीबीसी कैपिटल कोफ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

रेटिंग: 4.97
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 475
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *