सर्वश्रेष्ठ विदेशी मुद्रा दलाल

शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें

शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें

अच्छा शेयर कैसे चुनें? अच्छा शेयर चुननें के तीन आसान तरीके जानिए।

पिछले दिनों मैंने एक लेख लिखा था जिसका विषय था स्टॉक मार्केट में सफल निवेशक कैसे बने। इसमें मैंने बताया था कि हमें हमेशा अच्छा शेयर खरीदना चाहिए। अच्छे शेयर की पहचान के लिए हमें उस कंपनी का Balance Sheet एवं Profit & Loss A/c को अच्छी तरह देखना चाहिए।

कई दोस्तों ने कमेंट किया है कि हमारे पास इतना नॉलेज नहीं है कि हम कंपनी का Balance Sheet एवं Profit & Loss A/c समझ सकें और पढ़ना भी चाहे तो नहीं पढ़ सकते हैं। कुछ shortcut तरीका बताएं जिससे पता लगे किस कंपनी का stock अच्छा है जिसे हम खरीद कर अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

एक अच्छा शेयर का चुनाव करने से पहले हमें अपने आप से एक बात पूछना होगा कि शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें हम शेयर को खरीद कर कितने दिनों तक रख सकते हैं। यानी हम लंबे समय के लिए शेयर खरीद रहे हैं या फिर एक-दो घंटे के लिए।

आज के समय में बहुत सारे लोग Intraday trading करते हैं। यानी शेयर को 1- 2 घंटे में खरीद कर बेंच देते हैं। यदि आपकी फटाफट लाभ कमाने के लिए शेयर खरीदना चाहते हो उसकी पहचान अलग है। यदि आप शेयर खरीद कर लंबी अवधि यानी 1 साल से ज्यादा रखना चाहते हो उसकी पहचान अलग है।

Intraday trading के लिए अच्छी शेयर की पहचान

यदि आप Intraday trading के लिए शेयर खरीदना चाहते हो उसके लिए आपको कंपनी के बारे में विशेष जानने का कोई आवश्यकता नहीं है। आपको जिस दिन शेयर खरीदना है उस दिन मार्केट के शुरुआती 1 घंटे में शेयर की चाल को देखना है। यदि यह लगातार बढ़ रहा है तो आप उसे खरीद ले। 1- 2 घंटे बाद 2- 4% जो भी लाभ-हानि हुआ उसे बेचते हैं।

जैसे एक उदाहरण द्वारा इसे समझते हैं यदि हमें किसी व्यक्ति के साथ एक-दो घंटे गुजारना है तो हम उसके बारे में विशेष जानकारी नहीं रखना चाहते हैं जैसे उसका स्वभाव कैसा है? किस खानदान से जुड़ा हुआ है? आदि-आदि। हमें 1- 2 घंटे निकाल कर अलग हो जाना है। ठीक उसी प्रकार Intraday trading में हमें उस शेयर को लेना है और बेचना है।

कई कंपनी जो दिवालिया होने के कगार पर रहते हैं लेकिन Intraday trading में 10% से ज्यादा मुनाफा दे देते हैं। क्योंकि कोई पॉजिटिव न्यूज़ उसके शेयर को उछाल देता है। उस समय यह बात का कोई मतलब नहीं कि वह कंपनी दिवालिया होने वाली है या कुछ और।

इसलिए Intraday trading में यदि आपको अच्छे शेयर का चुनाव करना हो आपको भेड़ चाल चलनी पड़ेगी। यानी जो सभी लोग खरीदे हैं उसे ख़रीदो जो सब लोग बेच रहे हैं उसे बेंच दो। इसी चाल से आप इसमें मुनाफा कमा सकते हो और यही एक अच्छे निवेशक की पहचान है।

लंबी अवधि के लिए एक अच्छी शेयर का चुनाव कैसे करें?

यदि आप किसी शेयर को 1 शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें साल या इससे अधिक समय तक खरीद कर रखना चाहते हैं तो इसकी पहचान के लिए कई तरीके हैं। यदि आप के पास कंपनी का Fundamental, Value, Growth, Balance Sheet, Profit and Loss Account, Company Management, Dividend Policy, P/E Ratio इत्यादि जानने का समय है एवं यह सब जानने में रुचि रखते हैं तो इसे जानकर आप कंपनी के बारे में अच्छी जानकारी ले सकते हो और शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें पता लगा सकते हो कि शेयर अच्छा है या खराब है।

लेकिन अगर आप उपरोक्त जानकारी हासिल करने में Interested नहीं हो और कुछ Shortcut अपनाना चाहते हो जिससे पता लगे कौन सा शेयर अच्छा है। इस पहचानने के लिए मैं आपको कुछ अलग तरीका बताऊंगा जो कहीं भी आपको नहीं मिलेगा।

मैं आपको एक अच्छे शेयर चुनाव करने के लिए कुल 3 तरीके बता रहा हूं जो बिल्कुल सरल एवं practical है। चाहे आप financial background से हो या ना हो अच्छे Share का चयन जरुर कर सकते है।

अच्छा शेयर चुननें के 3 तरीके निम्नलिखित है-

1. Mutual Fund Portfolio देखकर

आपको केवल यह करना है कि आप जो भी शेयर लेना चाहते हैं या अभी तक कोई आपने विचार नहीं किया है कौन सा शेयर लेें तो आप तो Top 5 Mutual Fund को Google में सर्च कर ले।

प्रत्येक Mutual Fund में 70 से 80 कंपनी का शेयर शामिल रहता है। आप ऊपर के 10 शेयर को एक नोटबुक में लिखें। इसी प्रकार पांचों Mutual Fund के 10-10 शेयर को नोटबुक में लिख ले।

आप पांचों Mutual Fund से लिखे गए 10-10 शेयरों को आपस में चेक करें कि कौन सा ऐसा कंपनी का शेयर है जो पांचों Mutual Fund या 4 में शामिल है। जो अधिकतर Mutual Fund पोर्टफोलियो में शामिल है वही एक अच्छा शेयर है।

दोस्तों एक Mutual Fund मैनेजर के अंदर कई मार्केट विशेषज्ञ काम करते हैं। वह सभी अच्छी तरह कंपनी के हर एक पहलू को गौर कर उसे अपने Mutual Fund में शामिल करता है।

आप यदि इस प्रकार 5 Mutual Fund जो सबसे अच्छा है उसका Portfolio लिख लेते हैं तो आप कुल 100 मार्केट विशेषज्ञों की चॉइस जान लिए। यह अच्छे शेयर चुनाव का तरीका सबसे सटीक और आसान तरीका है।

जैसे एक उदाहरण देकर हम इसे समझाते हैं। आपने Top 5 Mutual Fund चुन लिया। उस 5 Mutual शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें Fund के 10- 10 शेयर को लिख लिया। मान लेते हैं कि HDFC Bank उस 5 Mutual Fund में से चार के पोर्टफोलियो में शामिल है या SBI 5 में से पांचों में शामिल हैं तो यह दोनों शेयर को चुनाव कर सकते हो।

2. Top Ten Company

यदि आप तरीका नंबर 1 के लिए समय नहीं निकाल पा रहे हैं। यानीं आपके पास समय बिल्कुल भी नहीं है कुछ होमवर्क करने का तो फिर आप Nefty के Top Ten कंपनी में से उस कंपनी को चुन सकते हैं जिसका शेयर वैल्यू ना तो साल का उच्चतम हो ना साल का निम्नतम, यानी बीच में हो। उसका आप शेयर खरीद सकते हैं।

एक उदाहरण लेते हैं। मान लीजिए ICICI Bank का Share निफ्टी के Top Ten शेयर में शामिल है। इसका वर्तमान मूल्य ₹400 प्रति शेयर है। साल का निम्नतम 350 और उच्चतम 450 रुपए हैं तो हम यह शेयर आराम से खरीद सकते हैं।

यह तरीका सबसे आसान है। इससे आसान तरीका आपको कोई भी नहीं बता सकता है।

3. परंपरागत शेयर

आप सोच रहे होंगे कि यह कौन सा शेयर है। दोस्तों यह शेयर हम उसे कहते हैं जिसे हम सालों से देख रहे हैं और अभी भी अच्छी तरह चल रही है।

जैसे आज से 40 साल पहले मेरे पिताजी ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में अपना अकाउंट खुलवाया था और आज भी स्टेट बैंक ऑफ इंडिया तेज गति से आगे बढ़ रही हैं। हमें एसबीआई का शेयर जरूर शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें लेना चाहिए क्योंकि यह एक लंबी रेस का घोड़ा साबित हो सकता है।

पारले जी बिस्कुट हम बचपन में खाते आ रहे हैं और आज भी खा रहे हैं। यानी यह कंपनी एक लंबी शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें रेस का घोड़ा है। हमें इसमें जरूर निवेश करना चाहिए।

दोस्तों मैं किसी कंपनी का नाम लेकर उसका विज्ञापन नहीं कर रहा हूं। मैं एक उदाहरण दे रहा हूं कि जो समान आप सालों से उपयोग कर रहे हैं और अभी भी वह अच्छी तरह अपना काम कर रही है। इसलिए उस कंपनी में निवेश कर देना चाहिए यदि आपको कोई विशेष जानकारी नहीं है।

इस प्रकार हमने आपको 3 सरल उपाय बताएं। जिसके द्वारा बिना किसी Financial knowledge के अच्छी stock का चुनाव कर सकते हैं। आप एक बार इसे करके जरूर देखें।

यह तीन तरीका आप अपना सकते हैं। इसमें कोई विशेष पढ़े लिखे लोगों की आवश्यकता नहीं है। 10 साल का बच्चा भी कर सकता है।

मेरे वेबसाइट का नाम स्टेशन गुरुजी हैं। इस पर मैं फ्री में वित्तीय जानकारी शेयर करता रहता हूं। कुछ दिन पहले मैंने Best Electric Vehicle Stocks, Multibagger Stocks, Penny Stocks, P/E Ratio इत्यादि के बारे में जानकारी शेयर किया हूं। आप चाहे तो इसे पढ़ सकते हैं।

दोस्तों स्टॉक मार्केट में खतरा भी बहुत सारे होते हैं। इसीलिए निवेश करने से पहले अच्छी तरह सोच विचार कर ले। किसी से कहने से कहीं भी निवेश ना कर दें।

एक बात और, कर्ज लेकर कभी भी निवेश ना करें। चाहे आप को अपने आप पर कितना भी भरोसा क्यों ना हो। क्योंकि अगर आपको नुकसान हुआ तो आप ज्यादा मुसीबत में पड़ सकते हैं।

मन में और कोई सवाल हो तो हमें जरूर ईमेल करें। हम सही जानकारी देने का प्रयास करेंगे। [email protected]

शेयर बाजार से पैसा बनाने के कारगर टिप्‍स, निवेश से पहले ध्‍यान रखें ये 7 बातें

7 simple ways to make money in stocks: शेयर बाजार में खासकर दो तरह के ट्रेडर होते हैं. एक जो फंडामेंटल पर फोकस रखते हैं और दूसरे जो अटकलों पर फैसला करते हैं.

Stock Market Investment Tips: शेयर बाजार से अगर पैसा बनाना चाहते हैं, कुछ खास बातों का जरूर ध्‍यान रखना चाहिए. आमतौर पर शेयर बाजार में पैसा लगाने वाले यह सोचते हैं कि वो कम समय में तगड़ा मुनाफा कमा लेंगे. कई बार ऐसा होता है कि कुछ घंटे में शेयर से मोटा मुनाफा हो जाता है. इससे उलट भारी नुकसान भी उठाना पड़ जाता है. बहरहाल, यह जान लें कि इक्विटी में ट्रेडिंग उतनी आसान भी नहीं है, जितनी आम निवेशक समझते हैं. बाजार में आपको अनुशासन और धैर्य की जरूरत पड़ती है. मार्केट में निवेश से पहले अच्‍छी तरह रिसर्च कर लेनी चाहिए. ऐसे 7 ऐसे आसान टिप्‍स जानते हैं, जिनको फॉलो कर बाजार से अच्‍छी कमाई की जा सकती है.

फंडामेंटल मजबूती का रखें ध्‍यान

शेयर बाजार में खासकर दो तरह के ट्रेडर होते हैं. एक जो फंडामेंटल पर फोकस रखते हैं और दूसरे जो अटकलों पर फैसला करते हैं. दोनों में बुनियादी फर्क स्‍टॉक की कीमत पर उनका नजरिया रहता है. फंडामेंटल निवेशक हमेशा से कंपनी की मजबूती पर ध्‍यान देता है न कि शेयर की कीमत पर. हमेशा फंडामेटल मैथड पर निवेश की कोशिश करनी चाहिए. बाजार से पैसा बनाने का यह अच्‍छा तरीका है.

कही-सुनी या दूसरों को देखकर न बनाएं स्‍ट्रैटजी

शेयर बाजार में इक्विटी की खरीद-बिक्री को लेकर किसी खास तरह की सोच में न रहे. कई ट्रेडर्स स्टॉक खरीदने या बेचने का फैसला ज्यादातर उनके जानकारों के प्रभाव में आकर करते हैं. अगर उनके आस-पास के सभी लोग किसी खास स्टॉक में निवेश कर रहे हैं, तो एक वह ट्रेडर भी उसी स्टॉक में निवेश करता है. इस तरह की स्‍ट्रैटजी से बचना चाहिए. लॉन्‍ग टर्म में यह स्‍ट्रैटजी सही नहीं है. दुनिया के दिग्‍गज निवेशक वारेन बफेट ने जब दूसरे लालची हो जाएं तो डरने की जरूरत है, वहीं जब जब दूसरे डर रहे हो, तो आप लालची बन जाएं.

बाजार में कभी भी जल्‍दबाजी न करें

स्‍टॉक मार्केट में कभी भी जल्‍दबाजी न करें. शेयर के दाम बढ़ने से पहले खरीदना और गिरने से पहले तुरंत बेचने का फैसला नुकसान करा सकता है. ज्‍यादातर निवेशक यह मानते हैं कि ट्राइंग टू टाइम इन मार्केट सही स्‍ट्रैटजी नहीं है. ऐसा इसलिए क्‍योंकि किसी भी स्‍टॉक में सटीक टॉप और बॉटम का अंदाजा लगाना मुमकिन नहीं है. अगर बाजार से पैसा कमाना है, तो इस तरह की स्‍ट्रैटजी से बचें.

निवेश में अनुशासन जरूरी

बाजार में अनुशासन बहुत जरूरी है. बाजार के इतिहास देखें तो बुल मार्केट में भी अधिकांश निवेशकों में डर होता है. शेयर बाजार में भारी उतार-चढ़ाव के चलते निवेशक अपनी कमाई डुबो देते हैं, वो भी तब जब मार्केट में बुलिश ट्रेंड रहा. यानी, तेजी का दौर रहा. इसलिए निवेशकों को निवेश को लेकर अनुशासन भरा रवैया रखना चाहिए. अगर लॉन्‍ग टर्म में कमाई करना चाहते हैं, तो निवेश का सिस्‍टमेटिक अप्रोच होना जरूरी है.

बाजार में अपना सरप्‍लस फंड ही लगाएं

अकसर यह सुनने में आता है कि शेयरों में निवेश के चलते कोई व्‍यक्ति भारी कर्ज में फंस गया. अगर आप शेयर बाजार में निवेश की शुरुआत कर रहे हैं तो हमेशा सरप्‍लस फंड ही निवेश करें. सरप्‍लस फंड से मतलब कि जो आपके पास आपके खर्चों और अन्‍य जरूरतों को पूरा करने के बाद बचता है. अगर आपको मुनाफ होने लगता है, तो आप उस पैसे को दोबारा निवेश करेंगे. कभी भी लोन या कर्ज लेकर निवेश न करें.

Zee Business Hindi Live TV यहां देखें

भावनाओं पर काबू रखें

बाजार में हमेशा भावनाओं में बहकर फैसला नहीं करना चाहिए. अगर आपका शेयर खरीदने-बेचने को लेकर इमोशंस पर कंट्रोल नहीं है तो आप भारी नुकसान करा सकते हैं. जब बाजार में तेजी रहती है तो ट्रेडर्स ज्‍यादा आकर्षित होते हैं और उस चक्‍कर में गलत शेयरों में पैसा लगा बैठते हैं. डर और लालच, ये दो ऐसे फैक्‍टर हैं, जिन पर शेयर में ट्रेडिंग के दौरान कंट्रोल होना चाहिए.

लक्ष्‍य हासिल करने लायक रखें

शेयर बाजार में निवेश को लेकर एक वास्‍तविक गोल रखें. निवेशकों को हमेशा लगता है कि उन्‍होंने जो निवेश किया है वह बेस्‍ट रिटर्न देगा. लेकिन अगर आपका फाइनेंशियल गोल रियलस्टिक नहीं है तो आप परेशानी में फंस सकते हैं. बाजार में कभी भी समान रिटर्न की उम्‍मीद न करें.


(नोट: स्‍टॉक मार्केट के ये टिप्‍स ब्रोकरेज फर्म मोतीलाल ओसवाल के ब्‍लॉग से लिया गया है.)

ये हैं शेयरों में न‍िवेश के 3 तरीके, जानिए इन्‍हें लेकर क्‍या हैं टैक्‍स नियम

इन बातों का ध्‍यान रखने की जरूरत

शेयरों में निवेश करने से पहले कुछ चीजों पर ध्‍यान देना जरूरी है. इनमें कंपनी की पसंद, शेयर की कीमत, निवेश योग्‍य रकम इत्‍याद‍ि शामिल हैं. इसके बाद आप नीचे बताए गए 3 तरीकों की मदद से शेयरों में निवेश कर सकते हैं.

​शेयरों में सीधे निवेश

​शेयरों में सीधे निवेश

इसके लिए आपको कंपनी के बारे में रिसर्च करने की जरूरत पड़ती है. आपको निवेश करने के लिए ब्रोकर के पास ट्रेडिंग अकाउंट के साथ डीमैट अकाउंट खुलवाना होगा. बैंक अकाउंट और केवाईसी कंप्‍लायंस भी अनिवार्य है.

​इक्विटी म्‍यूचुअल फंड

​इक्विटी म्‍यूचुअल फंड

इक्विटी म्‍यूचुअल फंडों में निवेश करने के लिए आपको केवाईसी की जरूरतों को पूरा करना पड़ता है. साथ ही फंड हाउस के एप्‍लीकेशन फॉर्म को भरना होगा जिसमें आप अपनी पसंद की स्‍कीम के बारे में बताते हैं. एप्‍लीकेशन स्‍वीकार शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें होने के बाद आपको यूनिटें आवंटित हो जाती हैं. निवेश की पोर्टफोलियो वैल्‍यू दिन के अंत में निकाली जाती है. इसका कैलकुलेशन करने के लिए एनएवी के साथ यूनिटों को गुणा किया जाता है.शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें

​पोर्टफोलियो मैनेजमेंट सर्विस

​पोर्टफोलियो मैनेजमेंट सर्विस

शेयर बाजार में बहुत ज्‍यादा पैसा (50 लाख रुपये से अधिक) लगाने की चाहत रखने वाले निवेशकों के पास पोर्टफोलियो मैनेजर्स की सेवाएं लेने का भी विकल्‍प है. इसके लिए पोर्टफोलियो मैनेजमेंट एग्रीमेंट किया जाता है. यह एग्रीमेंट निवेशक और पोर्टफोलियो मैनेजर के बीच होता है. इसमें निवेश का मकसद, जोखिम, पोर्टफोलियो मैनेजमेंट चार्ज की शर्तों के साथ इस बात का भी उल्‍लेख किया जाता है कि पोर्टफोलियो मैनेजर किस तरह की प्रतिभूतियों में निवेश करेंगे. शेयरों का स्‍वामित्‍व निवेशक के पास उसके डीमैट खाते में रहता है. इस तरह निवेशक को अपने खाते में ही डिविडेंड/बोनस एलॉटमेंट का पैसा मिलता है.

​किन बातों का रखें ध्‍यान

​किन बातों का रखें ध्‍यान

1-म्‍यूचुअल फंड पर कैपिटल गेंस टैक्‍स यूनिटों को भुनाने के वक्‍त ही लगता है. म्‍यूचुअल फंड पोर्टफोलियो के भीतर फंड मैनेजर प्रतिभूतियों में जो खरीद-फरोख्‍त करते हैं, उस पर कोई टैक्‍स नहीं लगता है.

2- पोर्टफोलियो मैनेजर जिन शेयरों में निवेश करते हैं, उन पर ट्रांजेक्‍शन के वक्‍त कैपिटल गेंस टैक्‍स लगता है. इस टैक्‍स को भरने की जिम्‍मेदारी निवेशक के पाले में आती है.

3- म्‍यूचुअल फंड स्‍कीम के मुकाबले पोर्टफोलियो मैनेजमेंट सर्विस यानी पीएमएस में पोर्टफोलियो को कस्‍टमाइज करने का खर्च ज्‍यादा आता है. म्‍यूचुअल फंड में स्‍टैंडर्ड पोर्टफोलियो होता है. यह शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें स्‍कीम के निवेश उद्देश्‍यों की तर्ज पर होता है.

Web Title : these are 3 ways to invest in stocks, know what are the tax rules regarding them
Hindi News from Economic Times, TIL Network

Investment Tips: शेयर मार्केट में बिगनर्स हैं तो दोस्त और यूट्यूब चैनलों की सलाह से रहें दूर

Investment Tips: शेयर बाजार में निवेश शुरू करने वाले लोगों के लिए आईपीओ एक आदर्श विकल्प

Investment Tips: ब्रोकरेज फर्म एंजेल वन के एवीपी अमरजीत मौर्य ने बिगनर्स के लिए निवेश के तरीके बताए. उन्होंने आईपीओ के . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : November 18, 2021, 12:46 IST

नई दिल्ली. (Investment Tips) शेयर मार्केट कुलांचे भर रहा है. पैसा दिन दुना रात चौगुना हो रहा शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें है. लिहाजा, लोग भी इसमें निवेश के लिए लालायित हैं. लेकिन यदि आप बिगनर्स हैं तो सावधान रहने की जरूरत है.
न्यूज18 ने बिगनर्स के लिए शेयर बाजार में एंट्री के तरीकों पर ब्रोकरेज फर्म एंजेल वन के एवीपी अमरजीत मौर्य (Amarjeet Maurya – AVP – Mid Caps, Angel One Ltd titled IPOs – The ideal investment vehicle for beginners in the stock market) से बात की. उनके शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें मुताबिक बिगिनर्स अपनी निवेश यात्रा शुरू करने के लिए आईपीओ का विकल्प चुन सकते हैं. ऐसे कई कारण हैं, जिनकी वजह से किसी व्यक्ति की निवेश यात्रा शुरू करने के लिए आईपीओ को सबसे अच्छा तरीका माना जाता है. आईए जानते हैं इन कारणों को…

यह भी पढ़ें: Insurance Update: रोज योग करने पर मिलेगी बीमा प्रीमियम में छूट, जानें सबकुछ
अनुभव हासिल करें लेकिन पूंजी न गवाएं

शेयर बाजार में अनुभव हासिल करने के लिए प्रारंभिक पूंजी को ‘गंवाने’ की बजाय आईपीओ जैसे आदर्श निवेश माध्यम को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है. साथ ही, आईपीओ में पैसा लगाते समय लापरवाह दृष्टिकोण नहीं अपनाना चाहिए, लेकिन अच्छे से विचार कर फैसला लिया जाए तो ये निवेश माध्यम काफी फायदे वाला साबित हो सकता है.
बेहतर कॉरपोरेट गवर्नेंस, दीर्घकालिक दृष्टिकोण का ध्यान रखें
आईपीओ में निवेश का चयन करते समय पूरी समझदारी से निर्णय लेना आवश्यक है. किसी भी कंपनी का आईपीओ चुनते समय निवेश आरंभ करने वाले को बेहतर कॉरपोरेट गवर्नेंस, दीर्घकालिक दृष्टिकोण और कंपनी के प्रबंधन की गुणवत्ता को ध्यान में रखना चाहिए. इसके अलावा, किसी कंपनी की तरफ से अपनाए जाने पर निवेश से संबंधित निर्णय लेते समय विवाद या अकाउंटिंग की आक्रामक प्रक्रियाओं जैसी खतरनाक स्थितियों पर भी शेयर मार्केट में निवेश के तरीकें विचार करना चाहिए.
यह भी पढ़ें: Investment Tips: सेंसेक्स के रिकॉर्ड स्तर पर भी पैसा लगाकर कमा सकते है मोटा मुनाफा, जानिए सबकुछ
ग्रे मार्केट प्रीमियम, फोरम्‍स पर चर्चा और विशेषज्ञों की सलाह का रखें ख्याल
अपेक्षित मुनाफे की स्थिति का मूल्यांकन करने के लिए कोई नौसिखिया निवेशक बाजार संकेतकों और मंचों का उपयोग कर सकते हैं. लेकिन ग्रे मार्केट प्रीमियम, फोरम्‍स पर चर्चा और विशेषज्ञों की सलाह जैसे विभिन्न बाजार संकेतक हैं जिनका उपयोग एक सूचित निर्णय लेने के लिए किया जा सकता है. बिगिनर्स इन मंचों का अनुसरण कर सकते हैं, जो शेयर बाजार में निवेश के अपने ज्ञान और अनुभव को समृद्ध करने में मदद करेंगे. ये मंच आईपीओ से संबंधित निर्णय लेने में भी उनकी सहायता करेंगे.
एफएंडओ और पेनी स्टॉक में पैसा लगाने में उच्च जोखिम
लापरवाह और बेखबर निवेश प्रक्रियाओं के कारण पूरी निवेश पूंजी को गंवाना बिगिनर्स की निवेश यात्रा की एक सामान्य विशेषता है. निवेश की शुरुआत करने वाले लोग दोस्तों, परिवारों और यहां तक कि कुछ अवांछित स्रोतों जैसे कि यूट्यूब चैनलों की सलाह को मानते हुए और जल्दी पैसा कमाने की उम्मीद के साथ काफी राशि का निवेश कर सकते हैं. एफएंडओ और पेनी स्टॉक में पैसा लगाने में उच्च जोखिम शामिल है और यह किसी व्यक्ति को आर्थिक रूप से नुकसान पहुंचा सकता है. इसलिए, आईपीओ एक तुलनात्मक रूप से सुरक्षित विकल्प है (उल्लिखित की तुलना में) क्योंकि इसमें पूरे निवेश को गंवाने की आशंका अपेक्षाकृत कम है.
आईपीओ इसलिए आकर्षण का केंद्र
चालू वर्ष (2021) में भारतीय निवेशकों ने कई आईपीओ देखे हैं, जिनमें स्टार्ट-अप और कुछ स्थापित ब्रांड शामिल हैं. यह बढ़ी हुई संख्या बिगिनर्स को विविध क्षेत्रों और पूंजीकरण सहित विकल्पों की एक विस्तृत श्रृंखला में से चुनने का मौका देती है. इसलिए, जोखिम लेने की क्षमता और निवेश लक्ष्यों के आधार पर, निवेशक एक या अधिक उपलब्ध आईपीओ में पैसा लगा सकते हैं.
आईपीओ ने दिया जमकर मुनाफा
हाल के दिनों में, ऐसे आईपीओ आए हैं जिन्होंने शुरुआती लोगों को बंपर लिस्टिंग के माध्यम से महत्वपूर्ण पूंजी वृद्धि हासिल करने में मदद की है. ऐसे आईपीओ के कुछ हालिया उदाहरणों में नायका ईकॉमर्स वेंचर्स (80% प्रीमियम मिलना), नजारा टेक्नोलॉजीज (लगभग 80% प्रीमियम), और सोना बीएलडब्ल्यू (लिस्टिंग के महीने भर के भीतर इश्यू प्राइस के मुकाबले 96% प्रीमियम) शामिल हैं. ये उदाहरण निवेश आरंभ करने वाले लोगों को आईपीओ को बाजार में प्रवेश करने का एक शानदार तरीका मानने के लिए प्रोत्साहित करते हैं.
खुद भी रिसर्च करें
निवेश के शुरुआती दिनों में एक निवेशक घबराया हुआ, उत्साहित और संदिग्ध होता है. बिगिनर्स को यह सुनिश्चित करने के लिए सर्वोत्तम निवेश के विकल्प का चयन करना चाहिए. आईपीओ सबसे अच्छे तरीकों में से एक हो सकता है जिसके माध्यम से एक निवेशक लंबी अवधि में रिटर्न प्राप्त कर सकता है और एक आशाजनक मोड पर निवेश यात्रा की शुरुआत कर सकता है, बशर्ते खुद भी रिसर्च करें और उसके अनुसार निर्णय लेने में उचित समय लगाएं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

रेटिंग: 4.60
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 143
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *