अध्ययन का सामग्री

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है?

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है?

मैं बिनेंस पर INR में बिटकॉइन कैसे खरीदूं?

पिछले एक साल में बड़ी संख्या में भारतीय निवेशकों ने क्रिप्टोकरेंसी में अपनी रुचि दिखाई है। वैश्विक महामारी से उत्पन्न अनिश्चितताओं के अलावा, भारतीयों ने मई 2021 के अंत तक हजारों करोड़ रुपये जमा किए हैं। इस जबरदस्त निवेश उछाल का कारण दुनिया भर में प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी द्वारा प्रदान किए गए निवेश पर प्रतिफल (रिटर्न) है। अकेले पिछले एक साल के निचले स्तर के बावजूद, बिटकॉइन की कीमत चार गुना और एथेरियम दस गुना से अधिक बढ़ गई है।

हालांकि देश में क्रिप्टोकरेंसी के लिए विनियमन अस्थिर रहा है, फिर भी भारत में क्रिप्टो निवेशों ने महत्वपूर्ण संकर्षण प्राप्त किया है। 15 मिलियन से अधिक भारतीयों ने डिजिटल मुद्राएं खरीदी या बेची हैं।

दुनिया की सबसे बड़ी आईटी आबादी वाले देश में कई क्रिप्टो उत्साही मानते हैं कि भारतीय निवेशकों द्वारा प्रदान की गई वर्तमान मात्रा बड़े पैमाने पर आपनाये जाने के मामले में केवल हिमशैल का सिरा है।

बिनेंस पर INR में बिटकॉइन खरीदने के लिए इन चरणों का पालन करें:

बिनेंस दुनिया का सबसे बड़ा क्रिप्टो एक्सचेंज है, जिस पर दुनिया भर के लाखों उपयोगकर्ता भरोसा करते हैं। हमारे प्लेटफॉर्म में भारतीय निवेशकों के लिए INR में क्रिप्टोकरेंसी खरीदने और बेचने का विकल्प है। भारत में INR में बिटकॉइन खरीदने के लिए नीचे दिए गए कदमों अथवा चरणों का पालन करें।

चरण 1: अपना बिनेंस खाता बनाएं

बिनेंस के साथ साइन अप करें और अपना ईमेल पता या मोबाइल फोन नंबर जैसे आवश्यक विवरण भरें। अपने क्रिप्टो वॉलेट की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हमेशा एक मजबूत पासवर्ड चुनना याद रखें। आप अपना बिनेंस खाता बनाने के लिए मोबाइल फ़ोन एप्लिकेशन भी डाउनलोड कर सकते हैं। आप सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत प्रदान करते हुए, 2FA या दो-कारक प्रमाणीकरण (two-factor authentication) के साथ अपने खाते की सुरक्षा भी कर सकते हैं। प्रोफ़ाइल टैब के अंतर्गत "सुरक्षा" (“Security”) विकल्प पर क्लिक करें।

चरण 2: अपना केवाईसी सत्यापन (verification) पूरा करें

केवाईसी (KYC- Know your customer) एक वित्तीय संस्थान द्वारा ग्राहक की पहचान का अनिवार्य सत्यापन है। केवाईसी प्रक्रिया में विभिन्न दस्तावेज शामिल हैं जिनका उपयोग आपकी पहचान को सत्यापित करने के लिए किया जा सकता है जैसे वैध पहचान पत्र, उपयोगिता बिल, और इसी तरह। प्रोफाइल टैब पर क्लिक करें, और फिर ड्रॉपडाउन मेनू से पहचान (identification) विकल्प चुनें।

चरण 3: अपनी पहचान सत्यापित (verify) करें

अपना केवाईसी विवरण दर्ज करने के बाद, सत्यापन प्रक्रिया शुरू करने के लिए वेरीफाई (verify) बटन पर क्लिक करें। कृपया ध्यान दें कि जमा किए गए दस्तावेज़ केवल आपकी राष्ट्रीयता के अधिकारियों द्वारा जारी किए हुए होने चाहिए।

चरण 4: सत्यापन (verification) पूरा करें

पुष्टि करें कि आपके केवाईसी सत्यापन को स्वीकार करने के लिए प्रस्तुत किए गए विवरण सटीक हैं। सत्यापन प्रक्रिया में कुछ समय लग सकता है, जिसके बाद आपका खाता ट्रेडिंग के लिए तैयार हो जाएगा। आपके पास बुनियादी (basic) से उन्नत (advanced) सत्यापन मॉडल पर स्विच करने का विकल्प भी होगा।

चरण 5: बिनेंस पी2पी के माध्यम से INR में बिटकॉइन खरीदें

बिनेंस पी2पी (पीयर-टू-पीयर एक्सचेंज) एक ऐसा बाज़ार है जहाँ लोग लगभग किसी भी देश में अपनी शर्तों पर एक-दूसरे के साथ सीधे क्रिप्टो व्यापार कर सकते हैं। 70 से अधिक फिएट मुद्राओं के साथ, पी2पी मार्केटप्लेस भारतीय निवेशकों के लिए भारतीय रुपये में क्रिप्टोकरेंसी खरीदना और बेचना आसान बनाता है।

मार्केटप्लेस पर जाने के लिए, वॉलेट टैब पर क्लिक करें, और फिर ड्रॉपडाउन मेनू से पी2पी विकल्प पर क्लिक करें। आप यहां क्लिक करके भी मार्केटप्लेस जा सकते हैं।

चरण 6: बिटकॉइन खरीदने के लिए अपनी आवश्यकताओं को भरें

व्यापार करने के लिए क्रिप्टोकुरेंसी के रूप में बीटीसी का चयन करें, और फिर 'खरीदें' विकल्प चुनें। वह राशि दर्ज करें जिसे आप फिएट मुद्रा के रूप में INR के क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है? साथ खरीदना चाहते हैं। उस भुगतान विकल्प का चयन करें जिसे आप मौजूद विभिन्न विकल्पों में से चुनना चाहते हैं। बिनेंस द्वारा सत्यापित व्यापारियों की सूची के साथ बिटकॉइन से INR मूल्य और, उनकी न्यूनतम और अधिकतम बिक्री की सीमा के लिए "केवल व्यापारी विज्ञापन दिखाएं" (“only show merchant ads “) विकल्प पर क्लिक करें।

चरण 7: व्यापारियों से क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है? बिटकॉइन खरीदना

उपयुक्त मर्चेंट का चयन करने के बाद, बीटीसी खरीदें ("BUY BTC") विकल्प पर क्लिक करें और अपनी चयनित फिएट मुद्रा में खरीदारी करने के लिए राशि भरें।

बीटीसी खरीदें ("क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है? BUY BTC") पर क्लिक करने के बाद, आपके पास पहले चुने गए भुगतान विकल्प के माध्यम से मर्चेंट को फंड ट्रांसफर करने के लिए 15 मिनट की समय सीमा होगी। भुगतान करें, और फिर "स्थानांतरित, अगला" (“Transferred, NEXT”) पर क्लिक करें।

चरण 8: व्यापारी से बिटकॉइन प्राप्त करना

व्यापारी को आपके खाते में खरीदे गए बिटकॉइन की राशि को स्थानांतरित करने के लिए एक सूचना मिलेगी। आपको व्यापारी से कुछ ही मिनटों में अपना बिटकॉइन प्राप्त हो जाएगा।

देरी होने पर, आप हमेशा "अपील उठा सकते हैं"। आपके द्वारा “स्थानांतरित, अगला” (“Transferred, NEXT”) विकल्प पर क्लिक करने के तुरंत बाद ही यह विकल्प उपलब्ध है। अगला कदम होगा "अपील का कारण" के लिए सबूत के साथ अपने तर्क का समर्थन करना।

अपने बिनेंस खाते से भारत में INR में बिटकॉइन खरीदने के लिए बस इतना ही करना है। यह आसान और तेज़ है। आप इस विशेष मार्गदर्शिका का उपयोग बिनेंस पी2पी मार्केटप्लेस के माध्यम से अन्य क्रिप्टोकरेंसी खरीदने के लिए भी कर सकते हैं।

Crypto Crash: क्रिप्टो एक्सचेंज में इतनी बड़ी गिरावट की क्या है वजह? जानिए

क्रिप्टोकरेंसी की दुनिया में यह इतने बड़े पैमाने पर हुई कोई पहली गिरावट नहीं है. बचाव की राह मुश्किल एफटीएक्स और अल्मेडा दोनों एक्सचेंज का बहुलांश स्वामित्व रखने वाले सैम बैंकमैन-फ्राइड ने इस साल की शुरुआत में अन्य बदहाल क्रिप्टो कंपनियों को मुश्किल से उबारा था.

crypto crash 2022

Crypto Crash Reason: अधिक समय नहीं हुआ जब एफटीएक्स दुनिया के सबसे बड़े क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग मंचों में से एक था. वर्ष 2019 में स्थापित इस क्रिप्टो एक्सचेंज में बड़ी तेजी से बढ़ोतरी हुई और वर्ष 2022 की शुरुआत में इसका मूल्य 30 अरब डॉलर तक पहुंच गया था. लेकिन पिछले दो हफ्तों में पूरी तस्वीर ही बदल चुकी है.

सबसे पहले एफटीएक्स और परिसंपत्ति-व्यापार फर्म अल्मेडा रिसर्च के संबंधों को लेकर चिंताएं सामने आयीं. इस दौरान ग्राहकों के पैसे को एफटीएक्स से अल्मेडा में स्थानांतरित किये जाने की चर्चाएं भी शामिल हैं.

Cryptocurrency: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, रेगुलेटरी फ्रेमवर्क बनाने पर काम करेगा भारत

Cryptocurrency: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, रेगुलेटरी फ्रेमवर्क बनाने पर काम करेगा भारत

कुछ दिनों बाद सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज और एफटीएक्स के प्रतिद्वंद्वी बिनेंस ने ऐलान किया कि वह एफटीटी टोकन की अपनी होल्डिंग को बेच देगी. इससे घबराये ग्राहक एफटीएक्स से धन निकालने के लिए दौड़ पड़े और यह एक्सचेंज अब पतन के कगार पर पहुंच चुका है. इसकी वेबसाइट पर यह संदेश भी जारी कर दिया गया है कि वह वर्तमान में निकासी की प्रक्रिया में असमर्थ है.

हालांकि क्रिप्टोकरेंसी की दुनिया में यह इतने बड़े पैमाने पर हुई कोई पहली गिरावट नहीं है. बचाव की राह मुश्किल एफटीएक्स और अल्मेडा दोनों एक्सचेंज का बहुलांश स्वामित्व रखने वाले सैम बैंकमैन-फ्राइड ने इस साल की शुरुआत में अन्य बदहाल क्रिप्टो कंपनियों को मुश्किल से उबारा था.

RBI On Cryptocurrency: डिजिटल मुद्रा आने के बाद खत्म हो जाएगी क्रिप्टोकरेंसी? डिप्टी गवर्नर ने कही यह बात

RBI On Cryptocurrency: डिजिटल मुद्रा आने के बाद खत्म हो जाएगी क्रिप्टोकरेंसी? डिप्टी गवर्नर ने कही यह बात

लेकिन अब वह अपनी कंपनियों को बचाने के लिए आठ अरब डॉलर का निवेश करने वाले की तलाश में हैं. लेकिन कई फर्मों के पहले ही एफटीएक्स में अपनी हिस्सेदारी को बट्टे खाते में डाल देने से बैंकमैन-फ्राइड के लिए इच्छुक निवेशकों को ढूंढना आसान नहीं होगा.

बिनेंस ने इस क्रिप्टो एक्सचेंज का अधिग्रहण करने के बारे क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है? में सोचा लेकिन आखिर में उसका फैसला नकारात्मक ही रहा. इसने कदाचार के आरोपों और अमेरिकी प्रतिभूति एवं विनिमय आयोग की जांच से जुड़ी चिंताओं को देखते हुए अपने कदम पीछे खींच लिये. ऐसी स्थिति में अब एफटीटी की कीमत बहुत गिर गई है.

एक हफ्ते पहले यह 24 डॉलर पर कारोबार कर रहा था लेकिन अब यह चार डॉलर से भी नीचे आ गया है. सावधानी का सबक सही तरह से विनियमित नहीं हो रहे एक्सचेंजों पर बिना किसी अंतर्निहित मौलिक मूल्य के 'परिसंपत्तियों' में व्यापार करना हमेशा एक बहुत ही जोखिम भरा प्रयास होता है.

कई लोगों के लिए यह नुकसान का सौदा बन सकता है. क्रिप्टो से अलग तरह की परिसंपत्तियों का मामला अलग होता है. आम कंपनी के शेयरों का एक बुनियादी मूल्य होता है जो कंपनी के मुनाफे से भुगतान किये गए लाभांश पर आधारित होता है. रियल एस्टेट का भी एक आधारभूत मूल्य होता है, जो निवेशक को मिलने वाले किराये या उस पर उसके भौतिक कब्जे को दर्शाता है.

एक बांड का भी मूल्य उस पर मिलने वाले ब्याज की राशि पर निर्भर करता है. यहां तक ​​कि सोने का भी कुछ व्यावहारिक उपयोग होता है. लेकिन बिटकॉइन, ईथर और डॉजकॉइन जैसी कथित क्रिप्टो मुद्राओं का ऐसा कोई बुनियादी मूल्य नहीं होता है. वे पार्सल आगे बढ़ाने वाले खेल की तरह हैं, जिसमें सट्टेबाज कीमत गिरने से पहले उन्हें किसी और को बेचने की कोशिश करते हैं.

क्रिप्टो पर प्रभाव इन घटनाओं ने क्रिप्टो पारिस्थितिकी तंत्र में विश्वास को और कम कर दिया है. इस नयी घटना से पहले ही क्रिप्टो-मुद्राओं का 'मूल्य' तीन लाख करोड़ डॉलर के उच्च स्तर से गिरकर एक लाख करोड़ डॉलर पर आ गया था. अब तो यह और भी नीचे गिर गया है.

जिस तरह इंटरनेट आधारित कारोबार में अमेजन जैसी कुछ कंपनियां ही दिग्गज बन पाई हैं, उसी तरह यह संभव है कि क्रिप्टो की रूपरेखा तय करने वाली ब्लॉकचेन तकनीक पर निर्भर केवल कुछ कंपनियां ही स्थायी तौर पर उपयोगी साबित हों.

मुद्रा के इलेक्ट्रॉनिक स्वरूप के विचार को केंद्रीय बैंक डिजिटल मुद्रा की शक्ल में अब अपनाया जा रहा है. लेकिन बैंक ऑफ इंटरनेशनल सेटलमेंट्स के मुख्य अर्थशास्त्री ह्यून सोंग शिन के शब्दों में कहें तो 'क्रिप्टो से जो कुछ भी किया जा सकता है वह केंद्रीय बैंक के पैसे से बेहतर किया जा सकता है.

('द कंवरसेशन' में प्रकाशित इस लेख को जॉन हॉकिंस ने लिखा है, जो कैनबरा यूनिवर्सिटी के कैनबरा स्कूल ऑफ पॉलिटिक्स, इकोनॉमिक्स एंड सोसाइटी में वरिष्ठ व्याख्याता हैं.)

Prabhat Khabar App :

देश, दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, टेक & ऑटो, क्रिकेट और राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

कारोबार बढ़ाने को देश के सबसे बड़े क्रिप्टोकरेंसी एक्‍सचेंज लिस्‍ट होगी फेसचेन

Fesschain will be india's largest cryptocurrency exchange list

नई दिल्‍ली। दुनिया में क्रि‍प्‍टोकरेंसी को लेकर काफी क्रेज बढ़ गया है। भारत में भी इसके निवेशकों में इजाफा देखने को मिल रहा है। ऐसे में कई कंपन‍ियां भी सामने आ रही हैं। अब देश की नामी कंपनी फ़ेसचेन (FESSChain) अपने कारोबार बढ़ा रही है। बाययूक्वाइन (BuyUCoin) को अपने लिस्टिंग पाइपलाइन में रखते हुए एक्सटी.कॉम (Xt.com) और इंडोएक्स.कॉम पर लिस्ट किया, और फ़ेसचेन का मेननेट (Mainnet) जल्द ही लैटोकन एक्सचेंज (Latoken Exchange) पर लांच होगा।

कंपनी ने घोषणा करते हुए कहा कि फ़ेसचेन (FESSChain), एक्सचेंज पार्टनर्स को अपने नवीनतम समूह में सुरक्षित करने में सक्षम रहा। नवीनतम घटनाक्रम के अनुसार, फेस (FESS) को एक्सटी.कॉम (Xt.com) और इंडोएक्स.कॉम पर सूचीबद्ध किया जा रहा है क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है? और कंपनी जल्द ही बाययूक्वाइन (BuyUCoin) पर भी सूचीबद्ध होंगे, जो भारत की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज में से एक है।

वास्तव में, बाययूक्वाइन (BuyUCoin) फेस (FESS) टोकन को सूचीबद्ध क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है? करने वाला पहला भारतीय एक्सचेंज होगा, और यहाँ FESS का INR पेयर भी उपलब्ध कराया जाएगा । इसके अलावा, लैटोकन एक्सचेंज (Latoken Exchange) भी फेस (FESS) टोकन को समर्थन प्रदान करने के लिए सहमत है , और जल्द ही हमारा मेननेट (Mainnet) उनके प्लेटफॉर्म पर लाइव होगा ।

पिछले दो वर्षों में, कंपनी अपनी परियोजना के साथ महत्वपूर्ण प्रगति की है। कंपनी ने शुरुआत में ब्लॉकचेन को मुख्यधारा में लाने की दृष्टि से स्केलेबिलिटी जैसे प्रमुख मुद्दों को हल किया । इसके साथ ही कंपनी एआई-पावर्ड ब्लॉकचैन फ्रेमवर्क बनाया है जो उच्च स्तर की सुरक्षा प्रदान करता है और 125K का उत्कृष्ट टीपीएस प्रदान करने में सक्षम है। जोकि, कंपनी अपने सिस्टम को कई वास्तविक जीवन क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है? के उपयोग के मामलों में लागू करने की अनुमति देता है।

जैसा कि हमने अपनी पेशकशों में सुधार करना हमेशा से जारी रखा हैं और वास्तविक उपयोग के मामलों क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है? को प्रस्तुत करते हैं, इसकी वजय से पार्टनर एक्सचेंजों के साथ मजबूत सहयोग में एक बड़ा बढ़ावा मिला है, और यह फेस (FESS) को एक्सचेंजों के माध्यम से और अधिक यूजर्स तक पहुंचने की अनुमति देता है जिन पर लोग भरोसा करते हैं और नियमित रूप से उपयोग करते हैं। इसी के साथ, हम अपने प्लेटफॉर्म को इसकी विशेषताओं, मापनीयता, गति और सुरक्षा के मामले में और बेहतर बनाने की योजना बना रहे हैं, और यह एक्सचेंज लिस्टिंग हमें और अधिक यूजर्स तक पहुंचने में, और उनसे परिचित होने का अवसर प्रदान करेगा । साथ ही हम चाहते हैं कि यदि आप सब के पास कोई सुझाव हो तो अवश्य दें।

साथ ही भविष्य के इलेक्ट्रॉनिक सेटलमेंट का निर्माण जारी रखते हुए और अपने रचनात्मक अनुप्रयोगों को तराशते हुए, कंपनी अपने उपयोगकर्ताओं के निरंतर समर्थन की सराहना करता हूं। इसी के साथ - साथ मैं फेसचेन को ब्लॉकचेन-आधारित इलेक्ट्रॉनिक सेटलमेंट का स्वर्ण मानक बनाने के हमारे दृष्टिकोण को साकार करने की दिशा में उनके निरंतर प्रयासों के लिए फेसचेन टीम के सभी क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या है? सदस्यों को आभार व्यक्त करना चाहता हूं।

कंपनी के पास पाइपलाइन में कई विकास और अपडेट हैं जिन्हें जल्द ही जारी करने की योजना बनाई जा रही है। हम चाहते हैं कि आप अपडेट रहने के लिए हमारे सोशल मीडिया हैंडल पर हमें फॉलो करते रहें।

दुनिया की सेकेंड लार्जेस्ट क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज FTX ने खुद को बैंकरप्सी फाइल किया

दोस्तों Binance दुनिया की नंबर वन Cryptocurrency Exchange प्लेटफॉर्म है और दूसरे नंबर पर FTX है । यही पर FTX जोकि दुनिया की सेकेंड लार्जेस्ट क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज है इन्होंने खुद को Bankruptcy फाइल कर दिया है । इनका कहना है कि अब इनके पास कुछ नहीं है और FTX के CEO Sam Bankman-Fried ने भी रिजाइन कर दिया है।एक वक्त में सैम बैंकमैन की 26 बिलियन यूएस डॉलर नेटवर्थ हुआ करती थी और उनको गोल्डन बॉय भी कहा जाता था । लेकिन अब इनकी हालत ऐसी है कि इनकी नेटवर्थ जीरो पर आ चुकी है ।FTX क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज में कई लोगों ने करोड़ों रुपए इन्वेस्ट किए थे जिसमें अब सभी के पैसे फंस चुके हैं। FTX की ऐसी हालत देखते हुए अब लोगों को Binance से भी डर लगने लगा है कि कही यह भी धोखा ना दे जाए । अभी क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज की हालत ऐसी है कि आप जितना ज्यादा इनवेस्टमेंट करोगे यह उतना ज्यादा लॉस में जा रहा है तो सोच समझकर ही इसमें इन्वेस्ट करें।

2. Disney को अपने स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म से लॉस हुआ और अब वह अपने एंप्लॉय को फायर कर रही है

दोस्तों अब Disney ने भी घोषणा कर दी है कि इनका स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म काफी टाइम से लॉस में चला रहा है । अभी हाल ही में इन्हें 1 बिलियन डॉलर का लॉस हुआ था और अब इनकी हालत नेटफ्लिक्स जैसी हो चुकी है । आजकल एम्पलॉयी को फायर करने का ट्रेंड चल रहा है तो इन्होंने भी अपने एम्प्लॉय को निकालना शुरू कर दिया है । भले ही कंपनी को कोई लॉस ना हो रहा हो लेकिन फिर भी इस ट्रेंड को फॉलो किया जा रहा है ।जब से एलोन मस्क ने ट्विटर से अपने एमप्लॉय को फायर किया है उसके बाद से यह ट्रेंड से बन चुका है अब धीरे-धीरे करके सारी दुनिया से एम्प्लॉय कम होते जा रहे है ।

3. Theranos की CEO एलिजाबेथ होम्स को 11 साल की जेल की सजा सुनाई गई

दोस्तों पिछले हफ्ते United States District Court ने Theranos की CEO Elizabeth Holmes को 11 साल की जेल की सजा सुनाई गई थी । दरअसल एलिजाबेथ होम्स की कंपनी थेरानोस एक ब्लड टेस्ट कर रहे थे जिसमें यह खून की एक बूंद से कई सारे ब्लड टेस्ट करने के नाम पर बहुत से इन्वेस्टर्स को बहला-फुसलाकर उनसे पैसे ले रहे थे । लेकिन अब यह ब्लड टेस्ट फेल हो चुका है जिसकी वजह से अब इनके ऊपर कई सारे चार्जेस लगाए गए है । इनके वकील ने पूरी कोशिश की थी कि एलिजाबेथ होम्स को 18 महीने का हाउस अरेस्ट दिया जाए लेकिन अब जाकर इन्हें 11 साल की जेल की सजा दी गई । इनका जो वकील है वो Theranos का इंवेस्टर भी रह चुका है , फॉर्मर एमप्लॉय भी और अब एलिजाबेथ को बचाने की भी कोशिश की थी लेकिन यह असफल रहा ।

4. यूएस गवर्नमेंट ने लोगों पर नजर रखने के लिए मच्छरों को दिया स्पाइ का काम

दोस्तों आपको मालूम होगा कि कुछ टाइम पहले ऐसी न्यूज आ रही थी कि यूएस गवर्नमेंट ने अपने लोगों पर नजर रखने के लिए कुछ कबूतरों को रखा था जो स्पाइ का काम करते थे।अब एक और खबर आ रही है कि यूएस गवर्नमेंट ने लोगों पर स्पाइ करने के लिए कुछ मच्छरों को छोड़ा हुआ है । हाल ही में एक वीडियो वायरल हुई थी जिसमें मच्छर के ऊपर कुछ नंबर लिखे हुए थे । इस वीडियो को देखकर ऐसा लग रहा था कि शायद इन मच्छरों को लोगों पर जासूसी करने के लिए छोड़ा गया हो जिससे कि यह जान सके कि लोग क्या बात कर रहें है ।

5. चीन में ऐसे होता है ड्राइविंग लाइसेंस का टेस्ट , वीडियो हुआ वायरल

दोस्तों एक विडियो काफी ज्यादा वायरल हो रही है जिसके अंदर यह दिखाया जा रहा है कि चीन के अंदर ड्राइविंग लाइसेंस का टेस्ट कुछ इस तरीके का होता है। यह टेस्ट ऐसा है जिसको पास करना बहुत ही मुश्किल काम है और शायद किसी का लाइसेंस भी ना बने । शायद यह टेस्ट उन लोगों के लिए होगा जो कमर्शियल व्हीकल चलाते है जैसे ओला या उबर चलाते है । एक आम आदमी के लिए यह टेस्ट पास करना बहुत ही मुश्किल काम है ।

रेटिंग: 4.26
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 248
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *